NEET 2020 में चरवाहे के बेटे ने किया टॉप, आगे की पढ़ाई के लिए लोगों से मांगी मदद

जीवितकुमार का कहना है, “मेरा लक्ष्य डॉक्टर बनने का नहीं था, लेकिन मैंने प्रयास किया क्योंकि ये परीक्षा पास करना काफी मुश्किल होता है. अब मैं MBBS की पढ़ाई करूंगा, लेकिन मेरा परिवार सरकारी कॉलेज की फीस देने में भी असमर्थ है, प्राइवेट तो दूर की बात है.”

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:08 pm, Sun, 18 October 20

NEET 2020 की परीक्षा पास करने वालों में तमिलनाडु के थेनी जिले के जीवितकुमार का भी नाम है. जीवित ने आम लोगों से ज्यादा तकलीफों का सामना करते हुए इस परीक्षा को पास किया है. उनके पिता एक चरवाहे हैं और MGNREGA में काम करते हैं. जीवित थेनी जिले के सिल्वरपट्टी में एक सरकारी मॉडल स्कूल के छात्र थे.

NEET 2020 परीक्षा जीवित का दूसरा प्रयास था, जिसमें उन्होंने 720 में से 664 नंबर हासिल किए. इस साल देशभर के जितने भी सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों ने NEET की परीक्षा पास की है, उनमें जीवितकुमार टॉप पर हैं.

“मुस्लिमों की आवाज उठाई तो मेरे परिवार को अगवा कर लिया”, पढ़ें ड्रैगन के जुल्‍म की कहानी

उन्होंने न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत में कहा है कि उन्हें लगता था कि वो शायद कभी मेडिकल की पढ़ाई नहीं कर सकेंगे, क्योंकि इस क्षेत्र के सरकारी कॉलेजों की फीस भी उनके परिवार की पहुंच से (आर्थिक तौर पर) बाहर है.

जीवितकुमार का कहना है, “मेरा लक्ष्य डॉक्टर बनने का नहीं था, लेकिन मैंने प्रयास किया क्योंकि ये परीक्षा पास करना काफी मुश्किल होता है. अब मैं MBBS की पढ़ाई करूंगा, लेकिन मेरा परिवार सरकारी कॉलेज की फीस देने में भी असमर्थ है, प्राइवेट तो दूर की बात है. मैं लोगों से अपील करना चाहूंगा कि वो मुझे पढ़ाई पूरी करने में मदद करें.”

“संक्रमित होने से पहले मुझे लगता था कोरोना है ही नहीं,” ये बात कहने वाले फिटनेस इन्फ्लुएंसर की मौत