एनकाउंटर की पूरी कहानी, पुलिस कमिश्नर की जुबानी… मना करने के बाद नहीं मानें थे हैवान

साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर वी. सज्जनार ने कहा कि 27-28 नवंबर की रात युवती के साथ दुष्कर्म हुआ और बाद में जिंदा जला दिया गया. हमने आरोपियों के खिलाफ सबूत इकट्ठे किए और बाद में उन्हें गिरफ्तार किया.

हैदराबाद के शमसाबाद में महिला वेटरनरी डॉक्टर के साथ हैवानियत करने वाले चारों आरोपियों को पुलिस एनकाउंटर (Hyderabad Encounter)
में ढेर कर दिया गया है. भले ही इस एनकाउंटर की देश भर में तारीफ हो रही हो लेकिन पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं. इस मामले में साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वी. सज्जनार(VC Sajjanar)  ने प्रेस कॉन्फ्रेंस(Press Conference) कर घटना की जानकारी दी.

साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर वी. सज्जनार ने कहा कि 27-28 नवंबर की रात युवती के साथ दुष्कर्म हुआ और बाद में जिंदा जला दिया गया. हमने आरोपियों के खिलाफ सबूत इकट्ठे किए और बाद में उन्हें गिरफ्तार किया. हमें दस दिन के लिए पुलिस कस्टडी मिली.

रिमांड के चौथे हम उन्हें बाहर लेकर आए, उन्होंने हमें सबूत दिए. आज हम उन्हें आगे के सबूत इकट्ठा करने के लिए लेकर आए थे, लेकिन उन्होंने पुलिस पार्टी पर हमला बोल दिया. हमारे दो हथियार छीने गए थे, जिसके बाद पुलिस को आरोपियों पर फायरिंग करनी पड़ी. चारों आरोपियों की मौत गोली लगने के कारण से ही हुई है, इस दौरान एक SI और कॉन्स्टेबल घायल भी हुए हैं.

हमने आरोपियों का डीएनए टेस्ट भी किया है, ये सभी लोग कर्नाटक-तेलंगाना में कई मामलों में आरोपी थे.साइबराबाद पुलिस के कमिश्नर ने कहा कि शुक्रवार सुबह 5.45 से 6.15 के बीच में एनकाउंटर हुआ, इन आरोपियों का नाम कई अन्य केस से भी जुड़ा है, इसकी जांच चल रही है.

पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने बताया कि पुलिस ने आरोपियों को चेताया था और सरेंडर करने को कहा था लेकिन उन्होंने फायरिंग जारी रखी. यही कारण रहा कि हमने खुली फायरिंग की और इसी दौरान आरोपी मारे गए. कमिश्नर ने कहा कि जो दो पुलिसवाले घायल हुए हैं उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है.