डल झील को मिलेगा ईको-सेंसिटिव जोन का टैग, सिर्फ 10 स्‍क्‍वायर किलोमीटर रह गया है एरिया

डल झील 22 स्क्वेयर किलोमीटर के मूल आकार से सिकुड़कर करीब 10 स्क्वेयर किलोमीटर की हो गई है. इसके कारण झील की क्षमता भी कम होकर करीब 40 प्रतिशत रह गई है.
Dal Lake as Eco Sensitiv Zone, डल झील को मिलेगा ईको-सेंसिटिव जोन का टैग, सिर्फ 10 स्‍क्‍वायर किलोमीटर रह गया है एरिया

श्रीनगर स्थित डल झील और इसके आसपास के इलाके को जल्द ही पर्यवारण के लिहाज से सेंसिटिव एरिया घोषित किया जाएगा. अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि डल झील और आसपास के इलाके में प्रदूषण और अतिक्रमण के चलते झील अपने मूल आकार (ओरिजनल साइज) के आधे से भी कम रह गया है.

डल झील 22 स्क्वेयर किलोमीटर के मूल आकार से सिकुड़कर करीब 10 स्क्वेयर किलोमीटर की हो गई है. इसके कारण झील की क्षमता भी कम होकर करीब 40 प्रतिशत रह गई है और इसके पानी की गुणवत्ता भी खराब हो गई है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डल और नगीन झीलों पर विशेषज्ञों की एक समिति 20 फरवरी तक अपनी अंतिम रिपोर्ट HUDD (हाउसिंग एंड अर्बन डेवलपमेंट डिपार्टमेंट) को सौंप देगी. समिति की सिफारिशें 29 फरवरी तक केंद्र सरकार को भेज दी जाएंगी.

कमेटी में पूर्व अतिरिक्त मुख्य सचिव केरल सरकार डॉ निवेदिता पी हरन, एमडी दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड डॉ मंगू सिंह, वकील एम सी मेहता, पर्यावरणविद, सलाहकार, और पूर्व एमडी दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन डॉ ई श्रीधरन के अलावा जम्मू और कश्मीर प्रशासन के शीर्ष अधिकारी इस कमेटी में शामिल रहेंगे.

ये भी पढ़ें-

MS धोनी ने पोस्ट की बाघ की फोटो, लिखा- जब वो खुद आपको समय देता है…

जम्मू-कश्मीर: सुरक्षा बलों ने तीन संदिग्ध छात्रों को किया गिरफ्तार, एक हैंड ग्रेनेड भी बरामद

Related Posts