दंतेवाड़ा में नक्‍सलियों से मुकाबले को तैयार ‘दंतेश्‍वरी फाइटर्स’

जल्‍द ही ट्रेनिंग पूरी कर ये कमांडो एंटी-नक्‍सल ऑपरेशंस का हिस्‍सा बनेंगी.
दंतेवाड़ा, दंतेवाड़ा में नक्‍सलियों से मुकाबले को तैयार ‘दंतेश्‍वरी फाइटर्स’

छत्‍तीसगढ़ के नक्‍सल प्रभावित जिले दंतेवाड़ा में अब महिला कमांडो नक्‍सलियों से मुकाबला करेंगी. अब तक केवल पुरुष जवान ही नक्‍सलियों से लोहा लेते थे. दंतेवाड़ा पुलिस ने 30 महिला कमांडो का एक विशेष दस्‍ता तैयार किया है. इसका नाम ‘दंतेश्‍वरी फाइटर्स’ रखा गया है. जल्‍द ही ट्रेनिंग पूरी कर ये कमांडो नक्‍सल ऑपरेशंस का हिस्‍सा बनेंगी. CRPF की बस्‍तरिया बटालियन की एक कंपनी दंतेवाड़ा में तैनात की गई है जिसमें 30 महिला सदस्‍य हैं.

साल भर पहले, बस्‍तर में माओवादियों से मुकाबले के लिए CRPF ने यहां के युवाओं की अलग कंपनी बनाई थी. इसका नाम बस्‍तरिया बटालियन रखा गया था. इस बटालियन की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी हैं. इन्‍हीं में से 30 युवतियों को दंतेवाड़ा में तैनात किया गया है. अब यहां इन्हें बस्तर के जंगलों के बीच माओवादियों से लड़ने की तैयारी कराई जा रही है. CRPF की असिस्टेंट कमांडेंट आस्था भारद्वाज इन्‍हें ट्रेनिंग दे रही हैं.

दंतेवाड़ा एसपी डॉ अभिषेक पल्लव की देख-रेख में महिला डीआरजी की टीम भी तैयार की जा रही है. अब तक यहां पर केवल पुरुष डीआरजी की 5 टीम थी. इस टीम का नाम बस्तर की आराध्य देवी मां दंतेश्‍वरी के नाम पर ‘दंतेश्‍वरी लड़ाके’ रखा गया है. इस टीम को तैयार करने की जिम्मेदारी महिला डीएसपी दिनेश्वरी नंद को सौंपी गयी है. दिनेश्‍वरी 30 महिला कमांडो को तैयार कर रही हैं जिनमें सरेंडर कर चुकीं 5 महिला माओवादी भी शामिल हैं.

बस्‍तर के आईजी विवेकानंद सिन्‍हा ने कहा कि दंतेवाड़ा में नक्‍सल ऑपरेशन के लिए महिला कमांडो की टीम तैयार हो चुकी है. दंतेवाड़ा में बनाई गई यह टीम महिला सशक्तिकरण की अनूठी मिसाल है.

क्‍या है इस पूरी कवायद का मकसद

महिला कमांडोज की टीम बनाने के पीछे एक वजह ये है कि इन लड़कियों ने माओवादियों के अत्‍याचार को अपनी आंखों से देखा है. कई ऐसी युवतियां हैं जो नक्‍सलियों की प्रताड़ना का शिकार हुई हैं. ये लड़कियां यहां के जंगलों से अच्‍छी तरह वाकिफ हैं. माओवादियों के समूह का सदस्‍य रहीं महिलाएं उनके कई ठिकानों को जानती हैं. महिला टीम होने का एक फायदा यह भी होगा कि पहले पुरुष जवानों पर ग्रामीण महिलाओं से अभद्रता के आरोप लगते थे, मगर अब महिला कमांडो के होने से यह आरोप खत्‍म हो जाएगा.

ये भी पढ़ें

‘राजीव गांधी मजबूर होकर बोले थे, मोदी ने हाल सुधार दिया’, राजनाथ सिंह ने क्‍यों कहा ऐसा

Related Posts