CSR रिसर्च फाउंडेशन की पहल, दिल्ली के इस कॉलेज में लगवाई सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन

स्कूल और कॉलेज में सेनेटरी नैपकिन मुहैया न कराने के कारण कई लड़कियों को समस्या का सामना करना पड़ता है.

नई दिल्ली: देश में कितनी ही लड़कियां और महिलाएं ऐसी हैं, जो कि सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल नहीं करती और मासिक धर्म आने पर एक ही कपड़े को बार-बार धोकर इस्तेमाल करने से अपना स्वास्थ्य खराब कर लेती हैं. वहीं स्कूल और कॉलेज में सेनेटरी नैपकिन मुहैया न कराने के कारण कई लड़कियों को समस्या का सामना करना पड़ता है.

इस समस्या को दूर करने के लिए सी.एस.आर रिसर्च फाउंडेशन ने दिल्ली विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले दीनदयाल उपाध्याय कॉलेज में भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन के सहयोग से एक वर्कशॉप का आयोजन किया. इस वर्कशॉप में छात्राओं को मासिक धर्म से जुड़े मुद्दों को लेकर जागरुक किया.

वहीं कॉलेज में छात्राओं की सुविधा के लिए निशुल्क सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन और इंसीनेटर लगाया गया. वर्कशॉप के दौरान सी.एस.आर रिसर्च फाउंडेशन अध्यक्ष श्री दीनदयाल अग्रवाल ने अपनी संस्था के “मिशन एएए” के जरिए महिलाओं के स्वास्थ्य, स्वच्छता, लैंगिक संवेदनशीलता और महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देते हुए छात्राओं को संबधित किया.