8,700 करोड़ की डिफेंस डील को मिली मंजूरी, खरीदे जाएंगे 106 स्वदेशी ट्रेनर एयरक्राफ्ट

बेसिक ट्रेनर सरकार की उस लिस्ट में शामिल हैं, जिसमें शामिल 101 सैन्य उपकरणों के आयात पर अगले पांच साल तक प्रतिबंध लगाया गया है.

रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को 8,722 करोड़ रुपये के सैन्य उपकरणों की खरीद के लिए मंजूरी दे दी है. रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस बात की जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इन सैन्य उपकरणों में 106 स्थानीय रूप से बनाए गए बेसिक ट्रेनर विमान की खरीद भी शामिल हैं. जिन्हें आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती देने के लिए खरीदा जा रहा है और जो कि भारतीय वायु सेना सौंपे जाएंगे.

दरअसल बेसिक ट्रेनर सरकार की उस लिस्ट में शामिल हैं, जिसमें शामिल 101 सैन्य उपकरणों के आयात पर अगले पांच साल तक प्रतिबंध लगाया गया है. ऐसे में मंत्रालय की रक्षा अधिग्रहण परिषद (DAC) ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में एक बैठक में 106 हिंदुस्तान टर्बो ट्रेनर-40 (HTT-40) विमान खरीदने के लिए आवश्यकता (AoN) को स्वीकृति दे दी है. भारत के रक्षा खरीद नियमों के मुताबिक काउंसिल का AoN देना सैन्य हार्डवेयर खरीदने की दिशा में पहला कदम होता है.

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “HAL ने सफलतापूर्वक HTT-40 प्रोटोटाइप विकसित कर लिया है और इसके प्रमाणन की प्रक्रिया जारी है, DAC ने भारतीय वायुसेना की ट्रेनिंग की जरूरतों को पूरा करने के उद्देश्य से 106 बेसिक ट्रेनर्स की खरीद को मंजूरी दे दी है.” IAF को शुरू में 70 ट्रेनर्स के ऑर्डर की उम्मीद है, बाकी के 36 ट्रेनर्स को IAF में HTT-40 बेड़े के संचालन के बाद खरीदा जाएगा.

SRGM अपग्रेड वर्जन की खरीद को मिली मंजूरी

भारतीय नौसेना की फायर पावर में सुधार के लिए, DAC ने सुपर रैपिड गन माउंट (SRGM) के अपग्रेड वर्जन की खरीद को मंजूरी दे दी है. जो कि भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (BHEL) की मुख्य गन है जो नेवी और इंडियन कोस्ट गार्ड (ICG) के युद्धपोतों पर लगाई गई है.

भारतीय सेना के लिए DAC ने 125 मिमी APFSDS (आर्मर पियर्सिंग फिन स्टैबिलाइज्ड डिस्चार्जिंग सबोट) बारूद की खरीद को मंजूरी दी है. खरीदे जाने वाले गोला-बारूद में 70 प्रतिशत स्वदेशी सामग्री होगी. DAC ने ऐसी मंजूरी भी दी हैं, जिससे AK 203 और UAV (Unmanned Aerial Vehicle) की खरीद में तेजी आने की संभावना है.

Related Posts