दिल्ली विधानसभा चुनाव : गठबंधन को मनाने के लिए बीजेपी ने नहीं की 13 सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा

दिल्ली चुनाव में अरविंद केजरीवाल को सत्ता से बाहर करने के लिए बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती. इसलिए जेजेपी और एसएडी की मदद लेने का प्लान बना रही है. माना जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इसके लिए खुद रणनीति बना रहे हैं.

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने 57 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है. जिन उम्मीदवारों की सूची जारी की गई है उनमें विजेंद्र गुप्ता और आम आदमी पार्टी छोड़कर बीजेपी में आए कपिल मिश्रा के नाम प्रमुख रूप से शामिल हैं. बीजेपी के 57 उम्मीदवारों में 11 अनुसूचित जाति के हैं. इसके अलावा चार महिलाओं को भी टिकट मिला है.

बाकी 13 सीटों के टिकट की घोषणा नहीं होने के पीछे बीजेपी के गठबंधन की ओर भी इशारा माना जा रहा है. इसके पहले भी दिल्ली विधानसभा चुनाव में बीजेपी शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) के साथ मिलकर चुनाव लड़ती रही है. वहीं इस बार हरियाणा में बीजेपी सरकार में सहयोगी नई पार्टी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) ने भी दिल्ली चुनाव में दिलचस्पी दिखाई है.

दिल्ली चुनाव में अरविंद केजरीवाल को सत्ता से बाहर करने के लिए बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती. इसलिए जेजेपी और एसएडी की मदद लेने का प्लान बना रही है. माना जा रहा है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह इसके लिए खुद रणनीति बना रहे हैं.

दिल्ली में बीजेपी के साथ मिलकर चार सीटों पर चुनाव लड़ता रहा एसएडी इस बार छह सीटों की मांग कर रहा है. बीजेपी सूत्रों के मुताबिक वह तीन सीटें देना चाहती है. इसके अलावा एक सीट पर एसएडी उम्मीदवार को बीजेपी के टिकट पर उतारा जा सकता है. वहीं चर्चा थी कि मुंडका और नजफगढ़ सीट से जेजेपी उम्मीदवार उतारेगी. इसके उलट बीजेपी ने इन दोनों सीटों पर उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी.

इन दो सीटों पर भी एसएडी ने किया था दावा

साल 2013 और 2015 विधानसभा चुनाव में एसएडी ने राजौरी गार्डन, हर‍ि नगर, शहदरा और कालकाजी सीट से चुनाव लड़ा था. इस बार अकाली इन सीटों के साथ ही मोतीनगर और रोहताश नगर सीट पर भी दावा कर रही थी. बीजेपी ने इन दोनों सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं. एसएडी कोटे की पुरानी चार सीटों पर उम्मीदवारों का एलान नहीं किया गया है.

इन चार सीटों में से हर‍ि नगर सीट पर अपने चुनाव चिन्‍ह पर और बाकी तीन सीटों पर बीजेपी के चुनाव चिन्‍ह पर चुनाव लड़ा था. साल 2013 में जहां तीन सीटों पर पार्टी को जीत मिली थी वहीं 2015 में सभी सीटों पर हार गई थी. साल 2017 में उपचुनाव में राजौरी गार्डेन से मनजिंदर सिंह सिरसा जीत हासिल कर 2015 चुनाव में हारी हुई सीट पर कब्‍जा जमाने में सफल हुए थे.

इन 13 सीटों पर नहीं हुई है बीजेपी उम्मीदवारों की घोषणा

जिन 13 विधानसभा सीटों पर बीजेपी के उम्मीदवारों के नाम की घोषणा नहीं की गई है. उनमें हरियाणा और पंजाब के वोटर का प्रभाव माना जाता है. ये सीटें नई दिल्ली, दिल्ली कैंट, कस्तूरबा नगर, महरौली, संगम विहार, बुराड़ी, सीमापुरी, कृष्णा नगर, नांगलोई जाट, राजौरी गार्डन, हरि नगर, कालकाजी और शाहदरा शामिल हैं.

बीजेपी ने फिलहाल गठबंधन को लेकर कोई फैसला सार्वजनिक नहीं किया है. जेजेपी नेताओं का मानना है कि बीजेपी जल्द ही इसकी घोषणा कर सकती है. जेजेपी प्रवक्ता दीप कमल सहारन ने बीते दिनों कहा था कि अरविंद केजरीवाल सिर्फ शहरी क्षेत्रों तक सीमित हैं. वहीं एसएडी प्रवक्ता डॉ. दलजीत सिंह चीमा ने भी उम्मीद जताई है कि पार्टी हाईकमान बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने को लेकर गंभीर है. उन्होंने कहा है कि उम्मीदवारों के नाम की घोषणा भी जल्द हो जाएगी.

ये भी पढ़ें –

जनसंख्या नियंत्रण कानून : RSS प्रमुख भागवत को NCP की चेतावनी, नवाब मलिक बोले- नतीजा देखेंगे

100 करोड़ के अनुदान पर हो रहा विवाद, जानें क्‍या है शिरडी के साईं मंदिर का इतिहास