केजरीवाल को बताया नक्सली, EC ने प्रवेश वर्मा के चुनाव प्रचार पर लगाया 24 घंटे का बैन

चुनाव आयोग ने उन्हें 30 जनवरी को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. आयोग के मुताबिक, प्रवेश ने अपने जवाब में खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा कि वीडियो में उनके बयान को सही तरीके से नहीं दिखाया गया है.
Delhi assembly elections 2020, केजरीवाल को बताया नक्सली, EC ने प्रवेश वर्मा के चुनाव प्रचार पर लगाया 24 घंटे का बैन

नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा के प्रयोग पर बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा पर चुनाव आयोग ने सख्त कार्रवाई की है. चुनाव आयोग ने उनके चुनाव प्रचार पर 24 घंटे की रोक लगा दी है. आयोग इससे पहले भी उन पर 96 घंटे की रोक लगा चुका है. इसके अलावा भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा को भी नफरत फैलाने वाले बयान पर जवाब तलब किया गया है. पात्रा को 6 फरवरी शाम पांच बजे तक जवाब देना होगा.

भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने पहले शाहीन बाग प्रदर्शन पर विवादित बयान दिया था जिसके कारण उनपर 96 घंटे प्रचार पर रोक लगा दी गई थी जिसकी अवधि मंगलवार को ही समाप्त हुई थी.

प्रवेश ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा था, ‘मैंने उनको आतंकी नहीं, नक्सलवादी कहा जो वह दिल्ली की जनता को गुमराह कर रहे हैं. शाहीन बाग में बैठे लोगों को गुमराह कर रहे हैं और उनको सपॉर्ट कर रहे हैं. जैसे कोई नक्सलवादी करता है ऐसे ही दिल्ली के मुख्यमंत्री काम करते हैं. आतंकवाद का काम करने वाला भी लोगों को गुमराह करता है और सीएम केजरीवाल भी लोगों को गुमराह करते हैं.’ इसी बयान पर उनपर सख्त कार्रवाई हुई है.

चुनाव आयोग ने उन्हें 30 जनवरी को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. आयोग के मुताबिक, प्रवेश ने अपने जवाब में खुद पर लगे आरोपों से इनकार किया है और कहा कि वीडियो में उनके बयान को सही तरीके से नहीं दिखाया गया है.

वहीं इस मामले पर चुनाव आयोग ने आगे कहा कि वीडियो को बार-बार देखा गया और उसकी जांच की गई और हम इस नतीजे पर पहुंचे कि प्रवेश वर्मा ने केजरीवाल के बारे में कटु बातें कही हैं. इसलिए आचार संहिता के उल्लंघन करता पाए जाने के कारण उनपर 5 फरवरी शाम 6 बजे से 24 घंटे तक प्रचार पर रोक लगाया जाता है.

चुनाव आयोग के आदेश के बाद अब इस अवधि में प्रवेश वर्मा जनसभा, रैली, रोडशो नहीं कर पाएंगे और न ही इंटरव्यू दे पाएंगे. बता दें कि दिल्ली में विधानसभा चुनाव का प्रचार गुरुवार शाम 6 बजे बंद हो जाएगा और 8 तारीख को दिल्ली की सरकार चुनने के लिए मतदान किए जाएंगे. 11 फरवरी को दिल्ली चुनाव के नतीजे भी सामने आ जाएंगे.

Related Posts