दिल्ली की अदालत ने डीके शिवकुमार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा

कोर्ट ने कहा कि सबसे पहले शिवकुमार को मेडिकल जांच के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया जाए, ताकि पता चल सके कि क्या उन्हें भर्ती करने की जरूरत है या नहीं.

कर्नाटक कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार को दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने ED कस्टडी खत्म होने के बाद 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. शिवकुमार 1 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे. कोर्ट ने कहा कि सबसे पहले शिवकुमार को मेडिकल जांच के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया जाए, ताकि पता चल सके कि क्या उन्हें भर्ती करने की जरूरत है या नहीं. कोर्ट शिवकुमार की जमानत याचिका पर बुधवार को सुनवाई करेगा.

मालूम हो कि आज यानी मंगलवार को शिवकुमार की ED कस्टडी खत्म हो रही थी. हालांकि प्रवर्तन निदेशालय ने उनकी न्यायिक हिरासत की मांग की थी. ED ने कहा कि हमें कुछ और सबूत मिले हैं, हमने कुछ और लोगों को समन किया है. इसी के साथ ED ने शिवकुमार की कस्टडी को बढ़ाने की मांग की. ED के वकील केएम नटराजन ने न्यायिक हिरासत की मांग की और कोर्ट को एप्लिकेशन दी.

ED ने कहा की शिवकुमार का CA समेत कुछ और लोगों से आमना सामना करवाना है. हमने पहले ही बेल एप्लिकेशन का जवाब दाखिल कर दिया है. इसलिए कस्टडी चाहिए और उसका बाद पूछताछ भी करनी है. इस मांग के विरोध में कांग्रेस नेता के वकील अभीषेक मनु सिंघवी ने कहा कि आरोपी की तबियत ठीक नहीं है. उन्हें हाइपरटेंशन और लो ब्लड प्रेशर के चलते 2 बार अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. हमने 13 तारीख को अस्पताल की मांग रखी थी, लेकिन ED ने इनकी रिमांड की मांग की.

मुकुल रोहतगी भी डीके शिवकुमार की तरफ से पेश हुए. उन्होंने न्यायिक हिरासत को डिसमिस करने के साथ बेल की भी मांग की. उन्होंने कहा कि शिवकुमार 7 बार विधायक रह चुके हैं और 59 साल के हैं और पब्लिक की नज़र में भी रहते हैं. उन्होंने बताया कि ये सभी शिकायतें आयकर विभाग की एक सर्च के आधार पर हैं. उसके बाद उस सर्च के आधार पर 3 और शिकायतें बना दी गईं.

ये भी पढ़ें: ब्रैड पिट ने NASA के एस्ट्रोनॉट को किया फोन, पूछा- क्या आपने विक्रम लैंडर को देखा?