Delhi Election 2020: कपिल मिश्रा की रद्द हो उम्मीदवारी, AAP ने चुनाव आयोग से की मांग

आप का है कि सरकारी आवास पर रहने के दौरान बिजली, पानी और टेलीफोन खर्च से संबंधित अनिवार्य 'नो-ड्यूज' सर्टिफिकेट न होने के बावजूद रिटर्निंग ऑफिसर ने कपिल मिश्रा का नामांकन पत्र स्वीकार किया है.

आम आदमी पार्टी (आप) ने दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी को पत्र लिखकर बीजेपी उम्मीदवार कपिल मिश्रा के खिलाफ शिकायत की है. आप ने शिकायत में कहा है कि कपिल मिश्रा का मॉडल टाउन से गलत नामांकन पत्र स्वीकार किया गया है.

कपिल मिश्रा मॉडल टाउन विधानसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार हैं. आप ने चुनाव आयोग से कपिल मिश्रा का नामांकन तुरंत रद्द करने की मांग की है.

आप के राष्ट्रीय सचिव पंकज गुप्ता द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र में दावा किया गया है कि सरकारी आवास पर रहने के दौरान बिजली, पानी और टेलीफोन खर्च से संबंधित अनिवार्य ‘नो-ड्यूज’ सर्टिफिकेट न होने के बावजूद रिटर्निंग ऑफिसर ने कपिल मिश्रा का नामांकन पत्र स्वीकार किया है.


आप के पत्र में दावा किया गया है कि मिश्रा पिछले 10 सालों से सरकारी आवास में रह रहे हैं और उन्हें भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार सर्टिफिकेट प्रस्तुत करना चाहिए.

मिश्रा पिछले दिनों आप का दामन छोड़ भाजपा के पाले में चले गए थे. वह केजरीवाल सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं. आप से नाता तोड़ने के बाद व लगातार दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की नीतियों पर निशाना साधते रहे हैं.

बता दें कि मॉडल टाउन से कपिल मिश्रा के खिलाफ आम आदमी पार्टी के अखिलेश पति त्रिपाठी चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं, कांग्रेस ने आकांक्षा ओला को अपना उम्मीदवार बनाया है.

खुद को दिल्ली का ‘बड़ा बेटा’ बताते हुए आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को कहा कि अगर दिल्ली में किसी और को वोट दिया गया, तो स्कूलों और अस्पतालों की हालत फिर से खराब हो जाएगी.

बादली में विधायक राजेश यादव के साथ एक रोड शो को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोगों को काफी नुकसान हुआ है और उनके सत्ता में आने के बाद ही शहर के स्कूलों और अस्पतालों में सुधार देखने को मिला है.

ये भी पढ़ें-

राजगढ़ थप्पड़ कांड: हाई कोर्ट ने कलेक्टर निधि निवेदिता को जारी किया नोटिस, 4 हफ्ते में मांगा जवाब

गंगा यात्रा में शामिल होने दोबारा कानपुर जाएंगे PM मोदी, जोरशोर से चल रही तैयारी

निर्भया गैंगरेप: फांसी में देरी पर SC पहुंची सरकार, कहा- दया याचिका दाखिल करने को मिले 7 दिन