Delhi Election Result: AAP की वापसी में महिला और अल्पसंख्यक वोटर सबित होंगे मददगार

सामाजिक लाभ की योजनाएं और मुफ्त के एक स्मार्ट कोंबीनेशन ने विधानसभा चुनावों में दिल्ली के मतदाताओं को आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल के पक्ष में कर दिया.
Delhi Election Result Women and minority voters for aap, Delhi Election Result: AAP की वापसी में महिला और अल्पसंख्यक वोटर सबित होंगे मददगार

दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आने में चंद घंटे बाकी हैं. सभी पार्टी और उनके उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला मंगलवार को हो जाएगा. इससे पहले मतदान के बाद सभी EXIT POLL के नतीजे आम आदमी पार्टी के पक्ष में आए हैं. एग्जिट पोल के मुताबिक AAP एक बार फिर दिल्ली की सत्ता पर काबिज होगी.

मंगलवार को आने वाले चुनाव नतीजे अगर इन EXIT POLLS से मिलते-जुलते हुए, तो आम आदमी पार्टी के लिए यह बहुत बड़ी जीत होगी. लेकिन आप की इस जीत में अगर सबसे बड़ा मददगार कोई होगा तो वो महिला और अल्पसंख्यक वोटर होगा.

दरअसल सामाजिक लाभ की योजनाएं और मुफ्त के एक स्मार्ट कोंबीनेशन ने विधानसभा चुनावों में दिल्ली के मतदाताओं को आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल के पक्ष में कर दिया.

आईएएनएस/सी-वोटर एग्जिट पोल के अनुसार, विशेष तौर पर महिलाओं, पिछड़ों, अल्पसंख्यकों और गरीबी रेखा से नीचे के लोगों पर फॉक्स कर के आम आदमी पार्टी (AAP) 70 सीटों वाली विधानसभा में 50.6 प्रतिशत के साथ वापसी कर रही है.

वर्ष 2015 में अपनी जीत से सबको चौंका देने वाली आप एक बार फिर आराम से जीतकर सत्ता में वापसी कर रही है. लेकिन इससे भी अधिक दिलचस्प बात यह है कि आप ने 11 प्रमुख जनसांख्यिकी के बीच लगातार स्कोर बनाया है.

महिलाओं का वोट प्रतिशत

उम्मीद के अनुसार, महिला मतदाताओं ने आप को निराश नहीं किया है. पार्टी ने भी उनके लिए फ्री बस यात्रा चालू की थी. शनिवार को खत्म हुए मतदान में 50.6 प्रतिशत महिलाओं ने आप को लिए वोट किया. वहीं 36.2 फीसदी ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए वोट किया. यहां तक की महिला मतदाताओं में 51.6 प्रतिशत गृहिणियों ने आप के लिए मतदान किया.

अल्पसंख्यकों का वोट प्रतिशत

मुफ्त की योजनाओं, नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर ध्रुवीकरण के बीच मुस्लिम मतदाता का वोट भी आप को गया है. 61 फीसदी मुस्लिम मतदाता ने आप के लिए वोट किया. वहीं सिर्फ 14.5 मतदाता ने कांग्रेस के लिए वोट किया, जो कि बीजेपी से भी कम है. बीजेपी 18.9 फीसदी अल्पसंख्यकों को अपने पाले में करने में कामयाब हुई है.

अब सबकी नजर मंगलवार को आ रहे चुनाव नतीजों पर है. बता दें कि साल 2015 में दिल्ली में आप ने 67 सीटें जीती थी, बीजेपी ने तीन और कांग्रेस अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी.

ये भी पढ़ें:

Delhi Election Result: BJP क्यों नकार रही थी Exit Poll के नतीजे? जानें कारण

Related Posts