दिल्‍ली चुनाव : ‘हेट स्‍पीच’ पर EC का एक्‍शन, अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा स्‍टार कैंपेनर्स की लिस्‍ट से बाहर

EC ने एक आदेश में कहा कि भारतीय जनता पार्टी के स्‍टार कैंपेनर्स की लिस्‍ट से प्रवेश वर्मा और अनुराग ठाकुर का नाम हटाया जाए.

भाजपा सांसद व दिल्ली चुनाव के स्टार प्रचारक प्रवेश वर्मा व केंद्रीय राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर पर चुनाव आयोग ने बैन लगा दिया है. EC ने एक आदेश में कहा कि भारतीय जनता पार्टी के स्‍टार कैंपेनर्स की लिस्‍ट से इन दोनों को हटाया जाए. दोनों को अनिश्चितकाल के लिए बैन किया गया है, ऐसे में माना जा रहा है कि दोनों नेता अब विधानसभा चुनाव में प्रचार नहीं कर पाएंगे. प्रवेश वर्मा को एक और नोटिस भेजकर धार्मिक सौहार्द बिगाड़ने की कोशिश पर 30 जनवरी की दोपहर 12 बजे तक जवाब मांगा गया है.

ईसी ने आदर्श आचार संहिता तथा लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 का उल्लंघन करने के मामले में वर्मा और ठाकुर को नोटिस भी भेजा है.

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट भारत के निर्वाचन आयोग को सौंपी थी. शाहीनबाग में सीएए के खिलाफ चल रहे धरना-प्रदर्शन पर वर्मा ने टिप्पणी की थी. धार्मिक स्थलों के बारे में उनके कुछ ट्वीट भी EC के रडार पर हैं.

प्रवेश वर्मा ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा कि “मैं अपने बयान पर कायम हूं. मुझे फोन पर जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं. दिल्ली सरकार की जमीन पर जितने भी धार्मिक स्थल मस्जिद मजार हैं सबको हटाने की मांग की है.” EC के आदेश पर वर्मा ने कहा कि “मुझे आज ही पता चला है कि मैं स्टार प्रचारक हूं, मैं आज भी चुनाव प्रचार करने जा रहा हूं.”

उनसे ठीक पहले केंद्रीय मंत्री ठाकुर ने एक सभा में देश के गद्दारों को गोली मारने जैसा नारा लगवाया था. एक वायरल वीडियो में ठाकुर नारा लगा रहे हैं, ‘देश के गद्दारों को’ और भीड़ जवाब दे रही है ‘गोली मारो..को’.

वर्मा ने यह दावा करके विवाद खड़ा कर दिया था कि यदि भाजपा दिल्ली में सत्ता में आई तो सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों से शाहीन बाग को एक घंटे में खाली करा देंगे. उन्‍होंने कहा था कि अपने संसदीय क्षेत्र पश्चिमी दिल्ली से एक महीने के भीतर सरकारी जमीन पर निर्मित सभी मस्जिदों को हटा देंगे.

ये भी पढ़ें

ओवैसी का ठाकुर को चैलेंज- जगह बताओ… आने के लिए तैयार, मौत अल्‍लाह की मर्जी से होगी