ITO के ट्रैफिक जाम से निजात के लिए दिल्ली सरकार की पहल, 6 सड़कों के यातायात पर स्टडी

दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने सेंट्रल दिल्ली (Central Delhi) में आईटीओ (ITO) इलाके में लगने वाले ट्र्र्रैफिक जाम को कम करने के लिए उद्देश्य से एक स्टडी कराने का फैसला लिया है.
reduce traffic six major roads touching ITO, ITO के ट्रैफिक जाम से निजात के लिए दिल्ली सरकार की पहल, 6 सड़कों के यातायात पर स्टडी

आईटीओ (ITO) चौराहे को छूने वाली छह प्रमुख सड़कों पर लगने वाले टैफिक को कम करने के लिए दिल्ली सरकार (Delhi Government) एक प्रोजेक्ट तैयार करने जा रही है. इस प्रोजेक्ट के जरिए आईटीओ जंक्शन को फिर से डिज़ाइन करने का काम किया जाएगा, ताकि लंबे समय तक टैफिक में जूझने की रोजाना की समस्या से निजात मिल सके. इसके लिए दिल्ली सरकार ने सेंट्रल दिल्ली (Central Delhi) में आईटीओ इलाके में लगने वाले ट्र्र्रैफिक जाम को कम करने के लिए उद्देश्य से एक स्टडी कराने का फैसला लिया है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

आईटीओ का टैफिक कम करने की तैयारी

यह दिल्ली का वो इलाका है, जहां पर 15-20 मिनट के रास्ते के लिए लोगों को टैफिक के कारण घंटों लग जाते हैं. एचटी की रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा कि स्टडी में आईटीओ जंक्शन को फिर से डिजाइन करने के तरीकों का प्रस्तावित किया जाएगा. सरकार ने मंगलवार को स्टडी के सिलसिले में एक ट्रेंडर जारी किया है, जिसक लिए बोली 24 अगस्त को बंद हो जाएगी.

पांच महीने के अंदर पूरी करनी होगी स्टडी

एक बार वर्क ऑर्डर जारी हो गया, तो जिन्हें टेंडर दिया जाएगा, उन्हें स्टडी पांच महीने के अंदर पूरी करनी होगी. रिपोर्ट के अनुसार, टेंडर डॉक्यूमेंट्स में कहा गया है कि स्टडी का उद्देश्य सड़क डिजाइन्स में बदलाव का प्रस्ताव करना, प्रस्तावित बदलावों को लागू करने के लिए एक रोड मैप तैयार करना और अलग-अलग समय के दौरान ट्रैफिक वॉल्यूम और पैदल यात्रियों की संख्या का सर्वे करना है.

लोक निर्माण विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि स्टडी में एक रोड इंवेंटरी एनालिसिस शामिल है, जिसके तहत दुकानों, पार्किंग इलाकों आदि की पहचान की जाएगी और उन्हें फिर से व्यवस्थित किया जाएगा. उदाहरण के लिए, ऑन-स्ट्रीट और ऑफ-स्ट्रीट पार्किंग इलाकों को नामित किया जाएगा और उचित रूप से साइनेज के साथ मार्क किया जाएगा.

अधिकारी ने आगे कहा कि स्टडी से आर्टेरियल रोड, सर्विस रोड, फुटपाथ, बस स्टॉप, सार्वजनिक सुविधाओं की जगह, ड्रेनेज और लैंडस्केपिंग जैसे कॉम्पोनेंट्स में डीप होगा. जिन छह प्रमुख मार्गों पर सबसे ज्यादा टैफिक लगता है, उनमें मथुरा रोड, तिलक मार्ग, सिकंदरा रोड, दीन दयाल उपाध्याय मार्ग, बहादुर शाह ज़फ़र मार्ग और इंद्रप्रस्थ मार्ग शामिल हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts