मोर्चरी में शवों की दुर्दशा पर Delhi High Court सख्त, केजरीवाल सरकार-नगर निगम से मांगी Status Report

दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने कोर्ट को भरोसा दिलाया कि भविष्य में ऐसी परिस्थितियों पैदा ना हो, उससे निपटने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं.
Delhi High Court cognizance, मोर्चरी में शवों की दुर्दशा पर Delhi High Court सख्त, केजरीवाल सरकार-नगर निगम से मांगी Status Report

दिल्ली (Delhi) के लोकनायक अस्पताल (Loknayak Hospital) में शवों की दुर्दशा को लेकर मीडिया रिपोर्ट के आधार पर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने खुद संज्ञान लिया है. कोर्ट ने गुरुवार को मामले पर केजरीवाल सरकार और तीनों नगर निगमों को नोटिस जारी कर शुक्रवार को कोर्ट में पेश होने का निर्देश दिया था.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

सुनवाई के दौरान केजरीवाल सरकार ने हाईकोर्ट में सफाई देते हुए कहा कि दिल्ली में अचानक कोरोना मरीजों संख्या बढ़ने के कारण ऐसी स्थिति पैदा हुई है, निगम बोध श्मशान घाट की क्षमता कम है और वहां के कर्मचारियों ने कोरोना महामारी का दाह संस्कार करने से मना कर दिया था.

‘स्टाफ कर रहा तय समय से ज्यादा काम’

केजरीवाल सरकार ने कहा कि फिलहाल स्थिति से निपटने के लिए श्मशान घाट पर काम कर रहे स्टाफ से तय समय से ज्यादा घंटे काम करने के लिए कहा गया है, जिससे सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक मरीजों के शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है.

दिल्ली सरकार के मुताबिक, श्मशान घाट पर CNG चलित शवदाह गृह में कुछ भट्टियों काम नहीं कर रही थीं जिसके चलते कुछ शवों को वापस मोर्चरी ले जाना पड़ा था. स्थिति को देखते हुए बिजली और CNG के अलावा लकड़ियों से भी दाह संस्कार की भी इजाजत दे दी गई है.

केजरीवाल सरकार का कहना था कि इतना ही नहीं LNJP से शवों को निगमबोध घाट के अलावा पंचकुइयां रोड और पंजाबी बाग के शवदाहगारों में भी भेजा जा रहा है. 28 मई को 28 शवों का संस्कार किया गया और 30 मई तक बाकी 35 शवों का संस्कार कर दिया जाएगा.

दिल्ली सरकार ने कोर्ट को भरोसा दिलाया कि भविष्य में ऐसी परिस्थितियों पैदा ना हो उससे निपटने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं.

विस्तृत स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने का आदेश

केजरीवाल सरकार का पक्ष सुनने के बाद हाईकोर्ट ने मामले पर दिल्ली सरकार और तीनों नगर निगमों से विस्तृत स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के लिए कहा. हाईकोर्ट मामले पर 2 जून को दोबारा करेगा सुनवाई.

दअरसल, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक LNJP अस्पताल में कोरोना मोर्चरी में 108 शव रखे हुए हैं. मोर्चरी के सभी 80 रैक भरे हुए हैं और 28 शव जमीन पर एक के ऊपर एक रखा गया है.

दूसरी तरफ, 26 मई को निगमबोध घाट के CNG श्मशान घाट से 8 शवों को लौटा दिया गया. बताया जा रहा है कि फिलहाल CNG श्मशान घाट और ज्यादा शवों का अंतिम संस्कार करने की स्थिति में नहीं था.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts