दिल्ली में जल्द लागू हो सकता है ऑड-ईवन, दिल्ली के मंत्री गोपाल राय का बयान

गोपाल राय (Gopal Rai) ने कहा कि दिल्ली में धूल को रोकने के लिए पानी का छिड़काव किया जाएगा, ईपीसीए (EPCA) के सभी सुझाव लागू किए जा रहे हैं. प्रकाश जावड़ेकर ने प्रदूषण (Pollution) पर कोई नई रिसर्च की हो तो उन्हें इस बारे में नहीं पता.

दिल्ली के मंत्री गोपाल राय ने कहा कि प्रदूषण बढ़ने पर ऑड-ईवन लागू किया जा सकता है.

प्रदूषण (Pollution) के मुद्दे पर केंद्र और दिल्ली सरकार (Delhi Government) एक बार फिर आमने-सामने आ गई है. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के पराली से चार फीसदी प्रदूषण वाले बयान पर दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय (Gopal Rai) ने कहा कि प्रदूषण को रोकने के लिए दिल्ली सरकार पिछले 15 दिन से काम कर रही है, बाकी राज्य सरकारें (State Government) काम नहीं कर रहीं हैं. जरूरत पड़ने पर दिल्ली में जल्द ही ऑड-ईवन (Odd-Even) लागू किया जा सकता है.

गोपाल राय (Gopal Rai) ने कहा कि प्रदूषण को रोकने के लिए 5 अक्टूबर से अभियान शुरू किया गया है. उन्होंने कहा कि आज GRAP लागू हुआ है, DPCC ने जनरेटर सेट को बंद करने के लिए आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा कि सभी हॉटस्पॉट (Hot Spot) इलाकों पर निगरानी की जा रही है. दिल्ली में जल्द ही ऑड-ईवन (Odd-Even) लागू किया जाएगा. दिल्ली (Delhi) में धूल को रोकने के लिए पानी का छिड़काव किया जाएगा, ईपीसीए (EPCA) के सभी सुझाव लागू किए जा रहे हैं. प्रकाश जावड़ेकर ने प्रदूषण पर अगर कोई नई रिसर्च की हो तो उन्हें इस बारे में नहीं पता, जबकि पिछली साल के आंकड़ों के मुताबिक पराली से 44% प्रदूषण हुआ था.

ये भी पढ़ें- प्रदूषण रोकने के लिए दिल्ली में कल से लागू होगा GRAP

पराली की वजह से दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण- गोपाल राय

गोपाल राय ने प्रकाश जावड़ेकर से सवाल किया कि 15 दिन पहले दिल्ली के लोग वही थे, दिल्ली में प्रदूषण के श्रोत वही थे, 15 दिन पहले एयर क्वालिटी इंडेक्स नॉर्मल था, फिर दिल्ली में अचानक ऐसा क्या हुआ कि जिससे दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ गया, प्रकाश जावड़ेकर को इस बात का जवाब देना चाहिए.

इसके साथ ही गोपाल राय ने कहा कि 15 दिन के एयर क्वालिटी इंडेक्स का चार्ट और नासा द्वारा जारी की गई पराली जलाने की तस्वीरें एक साथ देखने पर पता चलेगा कि जैसे-जैसे पराली जलाने की घटनाएं बढ़ी हैं, तैसे-तैसे दिल्ली की हवा की गुणवत्ता खराब हुई है.

‘काम ना करने वाली सरकारों की पैरवी कर रहे जावड़ेकर’

उन्होंने कहा कि अगर पराली का प्रदूषण 4 फीसदी है, तो उसको रोकना चाहिए, ना कि उसका प्रवक्ता बनना चाहिए. जो सरकार प्रदूषण के खिलाफ काम कर रही है, उन पर आरोप लगाए जा रहे हैं, और जो लोग काम नहीं कर रहे हैं उनकी पैरवी की जा रही है.

ये भी पढ़ें-Bihar Election 2020: ’10 लाख रोजगार’ पर भिड़े तेजस्वी-नीतीश, गिरिराज बोले- पहले जनसंख्या नियंत्र

गोपाल राय ने प्रकाश जावड़ेकर के बयान पर सवाल किया कि दिल्ली सरकार ने जनरेटर सेट पर बैन लगा दिया हरियाणा सरकार ने अब तक ऐसा क्यों नहीं किया. दिल्ली में दो थर्मल पावर प्लांट अब बंद किए जा चुके हैं, जबकि दिल्ली के आसपास अभी भी ग्यारह थर्मल प्लांट चलते हैं. केंद्र सरकार इन्हें बंद करने की डेडलाइन लगातार बढ़ा रही है.

Related Posts