दिल्ली पुलिस ने 14 अस्पतालों से मांगी मरकज मरीजों की डिटेल, तबीयत सुधरने पर पूछताछ

मरकज प्रमुख (Markaz Head) 54 वर्षीय मौलाना साद (Maulana Saad) अभी भी फरार है. वह फोन का भी इस्तेमाल नहीं कर रहा है, जिससे कि पुलिस उसे ट्रैक कर सके. मौलाना साद के दिल्ली में दो घर है, जिनमें से एक जाकिर नगर में है और दूसरा निजामुद्दीन में है.
Delhi Police ask details of markaz patients, दिल्ली पुलिस ने 14 अस्पतालों से मांगी मरकज मरीजों की डिटेल, तबीयत सुधरने पर पूछताछ

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. यह मामले तब से ज्यादा बढ़ रहे हैं जब से लॉकडाउन के बावजूद निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के हजारों लोग शामिल हुए. अब दिल्ली पुलिस ने इस मामले में अपनी जांच तेज शुरू कर दी है. दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने कम से कम 14 अस्पतालों से संपर्क किया है और उनसे मरकज के मरीजों की डिटेल मांगी गई है.

इसके अलावा पुलिस ने अस्पताल अधिकारियों से उनकी हेल्थ स्टेटस रिपोर्ट भी मांगी है. पुलिस का कहना है कि वो मरकज के मरीजों के ठीक होने के बाद पूछताछ करेंगे.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

मरकज प्रमुख 54 वर्षीय मौलाना साद अभी भी फरार है. वह फोन का भी इस्तेमाल नहीं कर रहा है, जिससे कि पुलिस उसे ट्रैक कर सके. मौलाना साद के दिल्ली में दो घर है, जिनमें से एक जाकिर नगर में है और दूसरा निजामुद्दीन में है. इसके अलावा पुलिस की एक टीम को मौलाना के पैतृक स्थान उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर भी भेजा गया है, ताकि मौलाना का पता लगाया जा सके. फिलहाल मौलाना के वकील का कहना है कि मौलाना साद आज 4 बजे प्रेस कांफ्रेंस करेंगे और अपनी बात रखेंगे.

क्राइम ब्रांच के सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि तबलीगी जमात में 9 लोग चीन से आए थे. कुल 41 देशों के 2063 लोग निजामुद्दीन मरकज में आए थे. मार्च महीने में ज्यादातर विदेशी बांग्लादेश (497) , इंडोनेशिया (553), थाइलैंड (151), क्रिकिस्तान (145), मलेशिया (118),  म्यांमार (117) और चीन (9) से आए थे.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts