दिल्ली दंगा चार्जशीट: वॉट्सएप ग्रुप से रची गई थी साजिश, पुलिस पर मिर्च पाउडर फेंकने का बना था प्‍लान

दिल्ली दंगों (Delhi Riots) की जांच के दौरान तकरीबन 4 दर्जन से ज़्यादा लोगों के व्हाट्सएप्प ग्रुप चैट्स को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने खंगाला है. इन चैट्स में कई आश्चर्यजनक जानकारी स्पेशल सेल को मिली, जिसके आधार पर कई आरोपियों की गिरफ्तारी हुई.

इस साल फरवरी में हुए पूर्वी दिल्ली दंगों (Delhi Riots) के मामले में पुलिस ने बुधवार को सफूरा जरगर (Safoora Zargar), नताशा नरवाल, देवांगना कलीता और ताहिर हुसैन समेत 15 लोगों के खिलाफ चार्जशीट (Chargesheet) दाखिल की. चार्जशीट में सबूत के तौर पर व्हाट्सएप ग्रुप चैट (Whatsapp Group Chat) और कॉल डिटेल्स रिकॉर्ड (CDR) को भी शामिल किया गया है. आरोप पत्र में कहा गया है कि व्हाट्सएप ग्रुप के जरिए दिल्ली को जलाने की साजिश रची गई.

तकरीबन 4 दर्जन से ज़्यादा लोगों के व्हाट्सएप्प चैट्स को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने खंगाला है. इन चैट्स में कई आश्चर्यजनक जानकारी स्पेशल सेल को मिली, जिसके आधार पर कई आरोपियों की गिरफ्तारी हुई. इन चैट्स के आधार पर जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां भी संभव हैं. दिल्ली दंगों के दौरान बनाये गए महत्वपूर्ण व्हाट्सएप्प ग्रुप DPSG यानी दिल्ली प्रोटेस्ट सपोर्ट ग्रुप की चैट्स की डिटेल्स चार्जशीट का हिस्सा हैं.

ग्रुप में क्या बातचीत हुई

इस ग्रुप में एक सदस्य दूसरे सदस्य को कह रहा है कि ”मैं शिक्षित नहीं हूँ लेकिन मैं इतना बता सकता हूं कि पिछली रात में रोड ब्लॉक करने का जो तुम्हारा प्लान था उसके बारे में स्थानीय लोग सब जानते हैं. तुम्हारा जो प्लान है उससे हिंसा भड़क सकती है. इसलिए आग से मत खेलो, ये केवल तुम्हें ही नहीं बल्कि हम सबको नुकसान पहुंचाएगा. हमारा प्रदर्शन अहिंसात्मक होगा. हम विचारों के जरिये लोगों को प्रभावित करेंगे.”

दूसरा सदस्य इसी के जवाब में कहता है ”बिल्कुल, कोर्ट ने भी यही कहा है कि अगर सब लोग रोड ब्लॉक करना शुरू कर देंगे तो क्या होगा. तकनीकी तौर पर हमें कोर्ट की सुनवाई से पहले ये नहीं करना चाहिए.”

अगला सदस्य कहता है कि ”तुम लोगों ने लाल मिर्च पाउडर के डिब्बे पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों पर हमला करने के लिए महिलाओं को क्यों बांटे हैं? तुम हमारे साथ ये क्या कर रहे हों?” इसके जवाब में एक अन्य सदस्य कहता है कि ”पिंजरा तोड़ ने कहा है कि कफन बांध कर आये हैं और जो हमारे साथ नहीं वो देश का गद्दार है.” पिंजरा तोड़ ने ये बात तब कही जब स्थानीय महिलाओं ने उन्हें रोड न ब्लॉक करने की सलाह दी.

17 हजार पन्नों से ज्यादा की चार्जशीट दाखिल

आरोपियों के खिलाफ अवैध गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) और IPC की विभिन्न धाराओं के तहत चार्जशीट दाखिल की गई है. 17 हजार पन्नों से ज्यादा की इस चार्जशीट में 747 गवाहों के नाम हैं. इनमें से 51 गवाहों ने मजिस्ट्रेट के समक्ष अपने बयान दर्ज कराए. इस मामले में अभी जांच चल रही है.

ताहिर से मिला था उमर खालिद

चार्जशीट के मुताबिक 8 जनवरी को ताहिर शाहीन बाग धरने में उमर खालिद और खालिद सैफी से मिला था. इसके बाद पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI के जामिया कार्यालय में भी मीटिंग हुई थी. खालिद सैफी ने ताहिर को भड़काया था. उमर खालिद ने PFI से मदद का भरोसा दिया था.

Related Posts