दिल्ली दंगे: अलग-अलग सड़कें एक ही तरह से जाम, पुलिस ने माना- यह सब था बड़ी साजिश का हिस्सा

दिल्ली दंगों (Delhi riots) की जांच में जुटी पुलिस का मानना है कि जिस तरह से सड़कों को जाम किया गया था वह किसी साजिश की ओर इशारा करता है. पुलिस ने यह भी बताया कि गुरुवार तक मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी जाएगी.

Delhi riots
केस में अथर खान का भी नाम है

राजधानी दिल्ली के नॉर्थ ईस्ट इलाके में हुए दंगों (North East Delhi riots) को लेकर जांच में जुटी टीम के सामने एक और बात आई है. पुलिस का मानना है कि जिस तरह से सड़कों को जाम किया गया था वह किसी साजिश की ओर इशारा करता है. पुलिस ने यह भी बताया कि गुरुवार तक मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी जाएगी.

यह बातें स्पेशल ब्रीफिंग में सामने आई है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, डेप्युटी कमिश्नर ऑफ पुलिस (स्पेशल सेल) प्रमोद सिंह कुशवाह ने यह बात कही है. कुशवाह ने उमर खालिद (Umar Khalid) की गिरफ्तारी और बीजेपी से जुड़े नेताओं पर कार्रवाई क्यों नहीं हुई इसपर भी बात की.

पढ़ें – दिल्ली दंगा मामले में गिरफ्तार उमर खालिद को कोर्ट ने 10 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा

एक ही तरह से अलग-अलग जगहो पर चक्काजाम

खबर के मुताबिक, प्रमोद सिंह कुशवाह ने कहा कि जांच में देखा गया कि एक ही तरीके से अलग-अलग जगहों पर चक्का जाम किया गया था. यह पहला संकेत है कि इसके पीछे कोई साजिश थी जिसके बाद यह सब (झड़प, दंगे) शुरू हुआ. उन्होंने आगे कहा कि एक धारणा है कि सीएए का समर्थन कर रहे लोगों की तरफ से यह सब शुरू हुआ. लेकिन अभी ऐसा कुछ जांच में नहीं आया है.

कुशवाह ने आगे कहा है कि जांच में ऐसी 25 प्रदर्शन वाली जगहों का पता चला है. जहां प्रदर्शन लोकल नहीं बाहर के लोग कर रहे थे. वे लोग रोज वहां जाते थे और ज्यादा से ज्यादा लोगों को जुटाने की कोशिश करते थे. बताया गया कि दंगे में (Delhi riots) साजिश वाले एंगल की चार्जशीट गुरुवार तक दाखिल की जाएगी.

पढ़ें – दिल्ली दंगा मामले में खुलासा, राजधानी को दहलाने के लिए मेरठ से मंगवाए गए थे हथियार

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, दिल्ली दंगों से जुड़े 751 केस रजिस्टर किए गए थे. इसमें से 340 को सुलझा लिया गया है. बाकी पर काम जारी है. जेएनयू छात्र उमर खालिद जिसे दंगों की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है उसे 14 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है.

Related Posts