• Home  »  अभी अभीटॉपदेशवीडियो   »   दिल्ली दंगा चार्जशीट: साजिश के लिए चांदबाग में हुई थी सीक्रेट मीटिंग, चक्का जाम कहां-कहां होगा पहले से था तय

दिल्ली दंगा चार्जशीट: साजिश के लिए चांदबाग में हुई थी सीक्रेट मीटिंग, चक्का जाम कहां-कहां होगा पहले से था तय

फरवरी महीने में दिल्ली को दंगे (Delhi Riots) की आग में झोंकने की प्लानिंग किस तरह से रची गई थी इसको लेकर कुछ चीजें सामने आई हैं. साजिश से जुड़ी बातें चार्जशीट (Delhi Riots Chargesheet) से पता चली हैं.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 1:08 pm, Tue, 22 September 20
Delhi riots
केस में अथर खान का भी नाम है

फरवरी महीने में दिल्ली को दंगे (Delhi Riots) की आग में झोंकने की प्लानिंग किस तरह से रची गई थी इसको लेकर कुछ चीजें सामने आई हैं. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने गैर-कानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (UAPA) और अन्य धाराओं के तहत जो चार्जशीट (Delhi Riots Chargesheet) दायर की है उसके मुख्य पाइंट्स पता चले हैं.

इनमें पता चला है कि दंगे की साजिश के लिए चांद बांग में एक सीक्रेट मीटिंग रखी गई थी. इसमें शाहदरा, साउथ डिस्ट्रिक्ट, चांद बाग, जफराबाद एरिया को हॉटस्पॉट के तौर पर चिन्हित किया गया था.

चार्जशीट (Delhi Riots Chargesheet) में क्या-क्या सामने आया है नीचे पॉइंट्स में समझिए.

  • 16-17 फरवरी 2020 की रात को चांद बाग एरिया में एक मीटिंग हुई थी. इसी रात सजिशकर्ताओं ने फैसला लिया कि प्रदर्शन पूरी दिल्ली में आयोजित की जाएगा. नॉर्थ ईस्ट, शाहदरा, साउथ डिस्ट्रिक्ट, चांद बाग, जफराबाद एरिया को हॉटस्पॉट के तौर पर चिन्हित किया गया.
  • 22 फरवरी 2020 रात 8.30 बजे जाह्नवी मित्तल ने कुसुम तबरेज वाइफ ऑफ तबरेज को कॉल किया. इसके बाद राहुल रॉय को तीन लंबे कॉल किए गए. राहुल रॉय उस समय गुरुग्राम अपार्टमेंट में थे. जहांगीरपुरी प्रदर्शन के मैन पावर और सक्षमता जानने के बाद राहुल रॉय ने फिर जाह्नवी मित्तल को कॉल किया और तकरीबन 20 मिनट तक बात की और इसी के बाद 23 फरवरी 2020 के लिए स्टेज तैयार किया गया.

पढ़ें- ‘मैंने धरना देने की बात कही थी…’, दिल्ली दंगे को भड़काने के आरोप पर कपिल मिश्रा ने पुलिस को दी सफाई

  • 23 फरवरी 2020 सुबह 8.41 मिनट पर तबरेज ने जाह्नवी मित्तल को कॉल किया और उसे अपने पास उपलब्ध मैन पावर और लॉजिस्टिक्स की जानकारी दी. जाह्नवी ने तबरेज से कहा कि वो शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल की तरफ जाएं. फिर 300 महिला प्रदर्शनकारियों को जहांगीरपुरी से शाहीनबाग ले जाया गया. जबकि उन्हें नॉर्थ ईस्ट दिल्ली नहीं ले जाया गया जहां प्रदर्शन होने थे.
  • तबरेज 6 बस और एक ट्रक के साथ दोपहर 1 बजे मोरी गेट पहुंचा ही था की जाह्नवी ने तबरेज को कॉल किया और कहा कि महिलाओं को शाहीनबाग से जफराबाद लेकर आओ. इस बीच सुबह 10.30 बजे जाह्नवी ने राहुल रॉय से तकरीबन 15 मिनट फोन पर बात की. इसी समय सुबह 10.30 बजे तबरेज महिलाओं को बस में बिठा रहा था.
  • तबरेज शाम 4.30 बजे जफराबाद के लिए 6 बस और एक ट्रक के साथ निकल गया. 1 घंटे 15 मिनट के अंदर उसने 22 किलोमीटर का सफर तय किया और पहुंच गया.
  • 23 फरवरी 2020 राहुल रॉय को देवेंगना कलिता, पिंजरा तोड़ ग्रुप की सदस्य ने कॉल किया उस समय राहुल रॉय गुरुग्राम में था और देवेंगना ने उसे जहांगीरपुरी से महिलाओ के आने की सूचना दी.
  • तकरीबन 300 महिलाएं ने जफराबाद हिंसा में भाग लिया जो पुलिस बल और सीएए के समर्थन वाले प्रदर्शनकारियों से भिड़ गईं.
  • इस संबंध में जाफराबाद में एफआईआर नंबर 49 रजिस्टर किया गया. शुरुआती हिंसा होने के बाद इन महिलाओं को जहांगीरपुरी भेज दिया गया और रात 11.08 मिनट में देवेंगना कलिता ने राहुल रॉय को कॉल करके हिंसा की ‘सफलता’ के बारे में जानकारी दी.
  • तबरेज ने जिन 7 गाड़ियों को किराए पर लिया था उसका किराया चुकाने के लिए उसे 66 फुटा रोड पर देवेंगना कलिता और नताशा नरवाल ने पैसे दिए. बस के ड्राइवर का स्टेटमेंट और मोबाइल फोन का लोकेशन यह साफ करता है.
  • 16-17 फरवरी 2020 की रात चांद बाग इलाके में जो सीक्रेट मीटिंग हुई थी उसमें जो लोग मौजूद थे उसमें ये बात हुई कि जो प्रदर्शन एक समुदाय बहुल इलाके में हो रही हैं उन्हें कहीं और बिजी सड़क की तरफ जाना होगा और चक्का जाम करना होगा, जिससे नार्मल ट्रैफिक मूवमेंट पर असर हो.
  • चक्का जाम के बाद पुलिस पर हमला, जनता पर हमला, पब्लिक प्रॉपर्टी को डैमेज पहुंचाने का काम करना होगा. हेड कॉन्स्टेबल रत्न लाल की हत्या मामले में गिरफ्तार एक आरोपी महम्मद अयूब ने इस बात की पुष्टि की है. आरोपी अयूब के जरिए 4 और आरोपियों का नाम सामने आया है. शाहदाब अहमद भी रत्न लाल की हत्या के आरोप में गिरफ्तार हुआ था. उसने भी इस बात की पुष्टि की.
  • केस में अथर खान का भी नाम है. उसने भी राहुल रॉय से टेलीफोन पर 23 फरवरी को 12 बजकर 18 मिनट पर बात की थी.