दिल्ली: रिकवर मरीजों में 30 फीसदी लोगों के नहीं मिले एंटीबॉडीज- कोरोना सीरो सर्वे

दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने 20 अगस्त को दावा किया था कि सीरो सर्वे (Sero Survey) के लिए 15 हजार सैंपल लिए गए थे जिसमें पाया गया कि 29.1 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी है.
coronavirus sero survey delhi, दिल्ली: रिकवर मरीजों में 30 फीसदी लोगों के नहीं मिले एंटीबॉडीज- कोरोना सीरो सर्वे

दिल्ली में अगस्त के पहले हफ्ते में किए गए एक सीरो सर्वे में पाया गया है कि Covid-19 से संक्रमित होकर रिकवर हुए 257 लोगों में से 79 में वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी नहीं थे. 11 जिलों में 1 से 7 अगस्त तक सर्वेक्षण में लगभग 15000 सैंपल लिए गए और वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी का परीक्षण किया गया.

अगस्त के सीरो सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक इनमें से सत्तर लोगों में वायरस के प्रति एंटीबॉडी नहीं थी. दिल्ली में Covid-19 स्थिति के व्यापक मूल्यांकन और इसके निष्कर्षों के आधार पर रणनीति तैयार करने के लिए यह अभ्यास किया गया.

दिल्ली सरकार ने एंटीबॉडी को लेकर किया था ये दावा

बता दें कि दिल्ली सरकार ने 20 अगस्त को दावा किया था कि सीरो सर्वे के लिए 15 हजार सैंपल लिए गए थे जिसमें पाया गया कि 29.1 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी है. सरकार ने दावा किया था कि जिन लोगों में एंटीबॉडी डेवलप हुई उनमें सबसे बड़ी संख्या 18 साल की उम्र के लोगों की है. इस उम्र के बच्चों में लगभग 34 फीसदी ऐसे हैं जिनमें एंटीबॉडी पाई गई है.

क्या होता है सीरो सर्वे?

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना के संक्रमण के स्तर को जानने के लिए सीरो सर्वे शुरु किया. कई जगहों पर राज्य सरकार ने भी स्थानीय स्तर पर सर्वे का काम किया. दिल्ली में अबतक दो सीरो सर्वे हो चुके हैं. सीरो सर्वेक्षण में रक्त सीरम का परीक्षण किया जाता है और यह देखा जाता है कि किसी संक्रमण के खिलाफ उसमें एंटीबॉडीज विकसित हुईं हैं या नहीं.

Related Posts