दिल्ली: सेक्स वर्कर्स को आत्मनिर्भर बनाने की मुहिम, दिया बनाना सिखा रही पुलिस

सेंट्रल दिल्ली उपायुक्त संजय भाटिया (Sanjay Bhatia) ने चेतावनी देते हुए कहा कि नाबालिग लड़कियों से या किसी महिला से जबरन देह व्यापार करवाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. अगर कोठों पर तहखाने बने हों तो उन्हें तोड़ दिए जाएं.

सेक्स वर्कर्स (Sex Workers) को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दिल्ली विधिक सेवा प्राधिकरण और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने नई मुहिम शुरू की है. दिल्ली का रेड लाइट एरिया जीबी रोड के तकरीबन 30 से अधिक कोठों पर 2,000 से ज्यादा सेक्स वर्कर्स काम करती हैं, जिनका जीवनयापन देह व्यापार से होता है. अब दिल्ली विधिक प्राधिकरण और कमला मार्किट पुलिस ने देह व्यापार के दलदल में फंसी तकरीबन 200 महिलाओं ने इस निंदित कार्य को छोड़ने का साहस दिखाया है. इसके लिए कानून और पुलिस ने मिलकर एक कार्यशाला की शुरुआत की है.

इस कार्यशाला में जहां डीएलएसए इनको वापस सभ्य समाज में लाने के लिए कानूनी मदद देगा, वहीं दिल्ली पुलिस इनको जीवन-यापन के गुर सिखाएगी. अब कमला मार्केट पुलिस इनको रंग-बिरंगे दिये सजाना सिखा रही है. दिल्ली पुलिस इनके द्वारा तैयार किए सामान की खरीदार खुद बनेगी. ताकि इनको प्रोत्साहित किया जा सके और देह व्यापार से हटाकर आत्मनिर्भर बनाया जा सके.

खुले में कूड़ा जलाने पर दिल्ली सरकार ने MCD पर लगाया 1 करोड़ का जुर्माना

‘कोठों पर बने तहखानों को तोड़ा जाएगा’

सेंट्रल दिल्ली उपायुक्त संजय भाटिया ने अपने संबोधन में साफ-साफ चेतावनी देते हुए कहा कि नाबालिग लड़कियों से या किसी महिला से जबरन देह व्यापार करवाने वालों को बख्शा नहीं जाएगा. अगर कोठों पर तहखाने बने हों तो उन्हें तोड़ दिए जाएं.

‘बिना भय के करें 112 नंबर पर कॉल’

उन्होंने कहा कि किसी भी महिला का शोषण किया जा रहा हो, उसकी सूचना 112 नंबर पर या थाना इंचार्ज को बिना भय के दें. उनकी पहचान गुप्त रखी जाएगी. सूचना देने वाले को नकद इनाम दिया जाएगा. जीबी रोड के हर कोठे की दीवार पर पुलिस अधिकारियों के नंबर चस्पा दिए गए हैं.

रेड लाइट एरिया में तीन दिन का शिविर आयोजित

वहीं, दिल्ली विधिक सेवा प्राधिकरण यानी डीएलएसए की तरफ जज और वकील भी आगे आए हैं. प्राधिकरण के सचिव गौतम मनन जो न्यायविद हैं, उन्होंने कहा कि समाज द्वारा शोषित उपेक्षित इन महिलाओं को न्यायिक प्रक्रिया के अंतर्गत अपने अधिकारों को पाने के लिए सहायता पा सकती हैं. इसके लिए रेड लाइट एरिया में तीन दिन का शिविर आयोजित किया गया है.”

दिल्ली: डॉक्टर-कर्मचारी को नहीं मिला तीन महीने से वेतन, सत्येंद्र जैन बोले- ‘MCD हमें सौंप दे अस्पताल’

Related Posts