Delhi Violence: दिल्ली HC का आदेश, 4 BJP नेताओं सहित विवादित वीडियो पर पुलिस दर्ज करे FIR

हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को कहा कि सभी विवादित वीडियो पर FIR दर्ज हो या नहीं इस पर संज्ञान ले और गुरुवार को कोर्ट को बताएं. दिल्ली हाईकोर्ट ने चार बीजेपी नेताओं के वीडियो भी देखे.
Delhi Violence Delhi High Court order, Delhi Violence: दिल्ली HC का आदेश, 4 BJP नेताओं सहित विवादित वीडियो पर पुलिस दर्ज करे FIR

बीते तीन दिनों से उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली के तमाम इलाकों में हिंसा हो रही है. गोकुलपुरी और मुस्‍तफाबाद में बुधवार को भी हिंसा हुई है. Delhi Violence नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) पर टकराव के कारण हुई हिंसा मामले में दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई हुई.

अदालत से दिल्ली पुलिस को फटकार लगाते हुए कहा कि स्थिति नियंत्रण करने में पुलिस नाकाम रही. दिल्ली हाईकोर्ट ने 4 बीजेपी नेताओं के अलावा और भी जितने विवादित वीडियो क्लिप हैं उन पर संज्ञान लेकर एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है.

हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को कहा कि सभी विवादित वीडियो पर FIR दर्ज हो या नहीं इस पर संज्ञान ले और गुरुवार को कोर्ट को बताएं. दिल्ली हाईकोर्ट ने चार बीजेपी नेताओं के वीडियो भी देखे. कोर्ट ने केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर सांसद प्रवेश वर्मा विधायक अभय वर्मा और पूर्व विधायक कपिल मिश्रा के वीडियो अदालत में चलवाए गए.

अदालत में सुनवाई के दौरान क्या-क्या दलीलें दी गईं

वकील कॉलिन गोंसॉलविस ने एफआईआर दर्ज करने संबंधी नियम तय करने वाले सुप्रीम कोर्ट के ललिता कुमारी के फैसले का उल्लेख किया.

याचिकाकर्ता ने कहा कि इनके बयानों को देखिए जब ये लोग ऐसे बयान देते हैं तो खुद पर गर्व महसूस करते हैं. कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से पूछा कि क्या चारों नेताओं ने मना किया कि यह वीडियो गलत है.

याचिककर्ता ने कहा कि इंसाफ तभी होगा जब नेताओं के खिलाफ कार्रवाई होगी. SG तुषार मेहता कपिल मिश्रा ने जो स्पीच में कहा, उसका उसके बाद हुई हिंसा की घटनाओं से कोई सीधा वास्ता नहीं है. FIR संजीदा मसला है, उस पर फैसला लेने के लिए बाकी मेटीरियल को देखना होगा. उसके लिए और वक्त चाहिए.

दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने SG तुषार मेहता की दलील का विरोध किया. कहा- कपिल मिश्रा के खिलाफ FIR दर्ज न करने का कोई औचित्य नजऱ नहीं आता. FIR हरेक संदेह की स्थिति में दर्ज होनी चाहिए. अगर बाद में FIR ग़लत पाई जाये तो FIR रद्द हो सकती है.

हाई कोर्ट ने पूछा कौन सा डीसीपी वीडियो में कपिल मिश्रा के साथ खड़ा है क्या नाम है?

कोर्ट में मौजूद अधिकतर वकीलों ने कहा कि डीसीपी सूर्या.

वकील कॉलिन- अगर विवादित बयान पर दिल्ली पुलिस नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करती तो दिल्ली में हिंसा नहीं होती. याचिकाकर्ता ने दिल्ली हिंसा कंट्रोल के लिए आर्मी बुलाने का आग्रह किया.

कोर्ट ने कहा की अभी हालात देखने दीजिये. जरूरत नहीं है. कोर्ट में SG ने याचिककर्ता के वकील कोलिन के दलीलों का विरोध किया इस मामले 1000 क्लिप होंगे लेकिन सिर्फ 4 ही क्लिप क्यों सेलेक्ट किए गए.

Related Posts