क्या होता है ‘खीर भवानी मेला’ जिसके लिए सजाए गए हैं इतने दीये?

श्रीनगर से 24 किलोमीटर दूर खीर भवानी मंदिर में हर साल लगता है ये मेला. दूर दूर से आते हैं कश्मीरी पंडित.
Kheer Bhawani, क्या होता है ‘खीर भवानी मेला’ जिसके लिए सजाए गए हैं इतने दीये?

जम्मू कश्मीर के खीर भवानी मंदिर में सेंट्रल कश्मीर रेंज के डीआईजी वीके बिर्डी ने सुरक्षा व्यवस्था का जायज़ा लिया. यहां सोमवार को प्रसिद्ध खीर भवानी मेला लगने वाला है. जहां बहुत सारे कश्मीरी पंडितों के आने की उम्मीद है.

Kheer Bhawani, क्या होता है ‘खीर भवानी मेला’ जिसके लिए सजाए गए हैं इतने दीये?

खीर भवानी मेला कश्मीरी पंडितों का सालाना त्योहार है. गांदरबल जिले के तुल्मुल्ला शहर में भव्य मेला आयोजित किया जाता है. यहां पूरे प्रदेश से कश्मीरी पंडित आकर रगन्या माता की पूजा करते हैं.

Kheer Bhawani, क्या होता है ‘खीर भवानी मेला’ जिसके लिए सजाए गए हैं इतने दीये?

पौराणिक मान्यता

श्रीनगर से 24 किलोमीटर दूर रगन्या माता का खीर भवानी मंदिर स्थित है. मान्यता है कि माता रगन्या रावण के समय में श्रीलंका से कश्मीर आई थीं. इस मंदिर में पानी का एक स्रोत है जिसे चमत्कारिक माना जाता है.

हिंदू मुस्लिम भाईचारा

कहते हैं इस मेले में स्थानीय मुसलमान भी बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते हैं. वो यहां आने वाले कश्मीरी पंडितों का स्वागत करते हैं और पूजा सामग्री आदि का इंतजाम करते हैं. पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला से लेकर महबूबा मुफ्ती तक यहां आकर पूजा कर चुके हैं. 2017 में जब तत्कालीन मुख्यमंत्री यहां मेले में पहुंची थीं तो उनका विरोध भी हुआ था. पिछले कुछ समय से खराब माहौल के चलते यहां प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं.

ये भी पढ़ें:

जम्मू-कश्मीर में आजादी के बाद सिर्फ एक शासक रहा हिंदू

बिहार के इस गांव में बीता कश्मीर के अंतिम राजा का जीवन, पढ़ें कहानी

अकबर क्या वाकई मीना बाजार में लड़कियों से करते थे छेड़छाड़?

Related Posts