DMRC झेल रहा भारी नुकसान, लॉकडाउन में मेट्रो रुकने से हुआ 1,609 करोड़ का घाटा

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते पूरे देश में लगे लॉकडाउन (lock down) ने हर क्षेत्र को प्रभावित किया. दिल्ली मेट्रो (Delhi Mtero) भी इससे हुए वित्तीय नुकसान से अछूता नहीं है.

  • TV9.com
  • Publish Date - 8:36 pm, Thu, 17 September 20

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते दिल्ली मेट्रो (Delhi Metro) 22 मार्च को बंद कर दी गई थी. सरकार ने बताया कि लॉकडाउन में बंद होने के चलते मेट्रो को भारी नुकसान झेलना पड़ा. देश में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के बाद मेट्रो 7 सितंबर से एक बार फिर पटरी पर दौड़ने लगी. फिलहाल मेट्रो को कोरोना गाइडलाइंस का पालन करते हुए चलाया जा रहा है.

केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने गुरुवार को लोकसभा में कहा कि दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन को कोविड-19 महामारी के चलते बंद होने की वजह से 1,609 करोड़ का नुकसान झेलना पड़ा है.

एक सवाल के लिखित जवाब में पुरी ने कहा कि DMRC ने बताया है कि कोविड-19 महामारी के चलते मेट्रो सेवाओं को बंद करना पड़ा, जिसकी वजह से करीब 1609 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ.

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान दूसरे काम जैसे, डिजाइनिंग, टेंडर शेड्यूल की तैयारी करना, टेंडर्स को फाइनल, DMRC ने पूरे कर लिए. मंत्री ने बताया कि DMRC की ओर से लगातार लोन का भुगतान किया जा रहा है.

एक दूसरे सवाल कि, DMRC के नुकसानों को भरने के लिए सरकार क्या कदम उठा रही है?, के जवाब में पुरी ने कहा, ‘राजस्व को बढ़ाने के लिए कई उपाय किए जाएंगे, जिसमें फीडर सिस्टम के प्रावधान, स्टेशनों और दूसरी जगहों पर प्रॉपर्टी डेवलेपमेंट जैसे कदम शामिल हैं. ‘

उन्होंने कहा कि, ‘मेट्रो रेल संचालन के दौरान वित्तीय स्थिरता को सुनिश्चित करना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होती है.’ बता दें कि 7 सितंबर से सीमित रूट पर मेट्रो दोबारा शुरू की गई थी, जिसके बाद 12 सितंबर को हर रूट पर मेट्रो के संचालन की अनुमति मिल गई थी.