डॉ फिरोज खान ने BHU के दूसरे विभागों में किया अप्‍लाई, धर्म विज्ञान फैकल्‍टी से इस्‍तीफा देने को तैयार

डॉ फिरोज खान ने फैकल्‍टी ऑफ ऑर्ट्स में संस्‍कृत पढ़ाने के लिए आवेदन दिया है. इसके अलावा वह आयुर्वेद फैकल्‍टी में भी असिस्‍टेंट प्रोफेसर बनने को तैयार हैं.
Professor Firoze Khan in BHU, डॉ फिरोज खान ने BHU के दूसरे विभागों में किया अप्‍लाई, धर्म विज्ञान फैकल्‍टी से इस्‍तीफा देने को तैयार

बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) में जारी विवाद खत्‍म हो सकता है. डॉ फिरोज खान ने दूसरे विभागों में अप्‍लाई किया है. अगर वहां उनका चयन हो जाता है तो वे संस्‍कृत विद्या धर्म विज्ञान (SVDV) फैकल्‍टी छोड़ देंगे. SVDV में असिस्‍टेंट प्रोफेसर पद पर उनकी नियुक्ति से हंगामा खड़ा हो गया था.

डॉ फिरोज खान ने फैकल्‍टी ऑफ ऑर्ट्स में संस्‍कृत पढ़ाने के लिए आवेदन दिया है. इसके अलावा वह आयुर्वेद फैकल्‍टी में भी असिस्‍टेंट प्रोफेसर बनने को तैयार हैं. द इंडियन एक्‍सप्रेस ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि खान ऑर्ट्स फैकल्‍टी में पढ़ाना चाहते हैं. ऐसा इसलिए क्‍योंकि SVDV के छात्रों ने कहा है कि उन्‍हें एक मुस्लिम के वहां पढ़ाने पर कोई आपत्ति नहीं है.

खान के एक करीबी ने अखबार से कहा, “फिरोज का आयुर्वेद फैकल्‍टी में पढ़ाने का उतना मन नहीं है. वहां किताबें भी उतनी नहीं होंगी क्‍योंकि आयुर्वेद में संस्‍कृत साहित्‍य ज्‍यादा नहीं है. हां अगर वो फैकल्‍टी ऑफ आर्ट्स में सेलेक्‍ट होते हैं तो SVDV से रिजाइन कर देंगे.”

आयुर्वेद फैकल्‍टी की शीट दिखाती है कि डॉ फिरोज ने शॉर्टलिस्‍ट किए गए कैंडिडेट्स में टॉप किया है. उनका स्‍कोर 86.75 है.

SVDV में अब तक एक भी क्‍लास नहीं

विरोध कर रहे छात्रों ने कई बार कहा कि एक मुसलमान उन्‍हें सनातन धर्म और कर्मकांड नहीं पढ़ा सकता. डॉ खान ने 7 नवंबर को ज्‍वॉइन किया था मगर एक भी क्‍लास नहीं ले सके. पिछले हफ्ते वह छुट्टी लेकर अपने घर जयपुर लौट गए.

22 नवंबर को छात्रों ने BHU के लिखित आश्‍वासन पर धरना रोक दिया था. हालांकि उन्‍होंने क्‍लासेज का बायकॉट जारी रखा. BHU प्रशासन को जवाब देने के लिए 10 दिन का समय दिया गया था.

ये भी पढ़ें

संस्कृत पढ़ाने को लेकर जहां मचा है बवाल, उसी BHU में हिंदू प्रोफेसर पढ़ाते हैं उर्दू

VIDEO: राम-कृष्ण के भजन गाते हैं फिरोज के पिता, बेटी का नाम लक्ष्मी, फिर BHU में विरोध क्यों?

Related Posts