हैदराबाद : DRDO ने डेवलप किया यूवी बेस्ड कैबिनेट, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को करेगा सैनिटाइज

DHRUV एक कांटेक्ट लेस अल्ट्रा वायलेट सैनिटाइजेशन कैबिनेट (Ultra Violet Sanitization Cabinet) है जो इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को सैनिटाइज करने के लिए अत्यधिक उपयोगी है.
UV based cabinet, हैदराबाद : DRDO ने डेवलप किया यूवी बेस्ड कैबिनेट, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को करेगा सैनिटाइज

हैदराबाद स्थित डीआरडीओ (Defence Research and Development Organisation) की रिसर्च सेंटर बिल्डिंग (RCI) ने मोबाइल फोन, लैपटॉप, आईपैड, पासबुक, चालान और कागज को सैनिटाइज करने के लिए एक अल्ट्रा वायलेट कैबिनेट DHRUV विकसित किया है. इसका उपयोग करेंसी नोटों और डाक्यूमेंट्स को सैनिटाइज करने के लिए भी किया जा सकता है. यह कैबिनेट के अंदर रखी वस्तुओं में यूवी किरणों का 360 डिग्री एक्सपोजर प्रदान करता है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

DHRUV एक कांटेक्ट लेस अल्ट्रा वायलेट सैनिटाइजेशन कैबिनेट (Ultra Violet Sanitization Cabinet) है जो इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को सैनिटाइज करने के लिए अत्यधिक उपयोगी है.

COVID-19 के प्रसार के बाद, कई यूवी टेक्नोलॉजी दैनिक उपयोग की वस्तुओं को कीटाणुरहित करने के लिए उभरी हैं. चीन में, बसों को उनके उपयोग के बाद हर रात अल्ट्रा वायलेट टेक्नोलॉजी के साथ कीटाणुरहित किया जा रहा है.

जिस अल्ट्रा वायलेट टेक्नोलॉजी को कीटाणुनाशक के रूप में उपयोग किया जाता है उसे अल्ट्रा वायलेट जर्मिसाइडल इरेडिएशन (यूवीजीआई) कहा जाता है. यूवी प्रकाश मनुष्यों के लिए हानिकारक होता है.

शार्ट वेवलेंथ यूवी आमतौर पर कीटाणुनाशक यूवी होते हैं. वे न्यूक्लिक एसिड के जरिए अवशोषित होते हैं. अवशोषित होने पर, न्यूक्लिक एसिड प्रतिकृति की अपनी क्षमता खो देते हैं. इसके अलावा, न्यूक्लिक एसिड कुछ ही समय में विघटित हो जाता है, जिससे उस जीव की मृत्यु हो जाती है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts