DRDO ने किया ABHYAS का सफल परीक्षण, जानिए इसकी खासियत

'ABHYAS' को DRDO की यूनिट एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट स्टैबलिशमेंट (ADE) ने डिजाइन करने के साथ तैयार किया है. 'ABHYAS' ने दो अंडरस्लैंग बूस्टर के जरिए उड़ान भरी. यह परीक्षण सफल रहा.

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने मंगलवार को रक्षा क्षेत्र में एक और उपलब्धि अपने नाम कर ली है. DRDO ने ओडिशा के बालासोर में ‘ABHYAS’ का सफल परीक्षण किया है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने भी इस मौके पर DRDO को बधाई दी.

मंगलवार को हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टार्गेट (HEAT) ‘ABHYAS’ का सफल परीक्षण हुआ. यह परीक्षण ओडिशा के बालासोर टेस्ट रेंज में किया गया. परीक्षण के दौरान विभिन्न रडार और इलेक्ट्रो ऑप्टिक प्रणाली के जरिए इसकी निगरानी की गई. इस वाहन का उपयोग विभिन्न मिसाइल प्रणालियों की टेस्टिंग के लिए टारगेट के रूप में किया जा सकता है.

‘ABHYAS’ को डीआरडीओ की यूनिट एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट स्टैबलिशमेंट (ADE) ने डिजाइन करने के साथ तैयार किया है. ‘ABHYAS’ ने दो अंडरस्लैंग बूस्टर के जरिए उड़ान भरी. ABHYAS के टेस्ट को कई रडार और इलेक्ट्रो ऑप्टिक सिस्टम की सहायता से चेक किया गया. जिसमें ‘ABHYAS’ का प्रदर्शन सही पाया गया.

क्या है ABHYAS

ABHYAS एक बिना पायलट का एरियल टारगेट है. इसका इस्तेमाल कई तरह के मिसाइल को टेस्ट करने में किया जाएगा. इसके साथ ही ABHYAS का इस्तेमाल अलग-अलग तरीके की मिसाइल और एयरक्राफ्ट का पता लगाने के लिए हो सकता है.

अभ्यास में एक छोटा गैस टरबाइन इंजन लगा है. यह MEMS नेविगेशन सिस्टम पर काम करता है. DRDO के मुताबिक यह एक बेहतरीन एयरक्राफ्ट है जो नवीन तकनीक का उदाहरण है और देश की रक्षा प्रणाली को मजबूती प्रदान करेगा. जमीन से इसे एक लैपटॉप के जरिए कंट्रोल किया जा सकता है.

रक्षामंत्री ने दी बधाई

अभ्यास के सफल परीक्षण पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने बधाई दी. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि ”ABHYAS – ITR बालासोर से हाई स्पीड एक्सपेंडेबल एरियल टारगेट के सफल परीक्षण के साथ ही DRDO ने आज एक और उपलब्धि हासिल की है. इसका उपयोग विभिन्न मिसाइल प्रणालियों के मूल्यांकन के लिए एक लक्ष्य के रूप में किया जा सकता है. इस उपलब्धि के लिए DRDO को बधाई.”

Related Posts