जब तक मैं यहां हूं, देश में नहीं आने दूंगा ड्राइवरलेस कार; क्यों बोले नितिन गडकरी?

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा ''देश की कई बड़ी हस्तियां मुझसे मिली हैं जिनका कहना है कि वे देश में बगैर ड्राइवर से चलने वाले वाहन लाना चाहती हैं.''
नितिन गडकरी, जब तक मैं यहां हूं, देश में नहीं आने दूंगा ड्राइवरलेस कार; क्यों बोले नितिन गडकरी?

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि भारत में बिना चालक वाली कारों (ड्राइवरलेस) को अनुमति नहीं दी जाएगी. क्योंकि इससे लाखों लोगों का रोजगार छिन जाएगा.

नितिन गडकरी ने यह बात मंगलवार को खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग के विशेष कार्यक्रम में कही.

‘मैं अनुमति नहीं दूंगा’

गडकरी ने कहा ”देश की कई बड़ी हस्तियां मुझसे मिली हैं जिनका कहना है कि वे देश में बगैर ड्राइवर से चलने वाले वाहन लाना चाहती हैं. मैंने उन्हें स्पष्ट कर दिया है कि जब तक मैं यहां हूं देश में ऐसे वाहनों की अनुमति नहीं दूंगा.”

‘नई टेक्नोलॉजी विरोध नहीं’

उन्होंने कहा, ”मुझे यह भी कहा गया कि क्या मैं नई टेक्नोलॉजी का विरोध कर रहा हूं? मैंने कहा कि ऐसा बिल्कुल नहीं है.”  उन्होंने कहा कि देश में 40 लाख ड्राइवर हैं. 25 लाख ड्राइवरों की कमी है. मैं एक करोड़ लोगों का रोजगार नहीं छीन सकता.

ड्राईवरलेस कारों का परीक्षण

आपको बता दें कि दुनिया में कई जगहों पर ड्राईवरलेस कारों का परीक्षण किया जा रहा है. गूगल समेत कई दिग्गज कंपनियां इस पर काम कर रही हैं कि कैसे ड्राइवरलेस कारें सड़कों पर उतारी जाएं.

माना जा रहा है कि ऐसा करने से AI (आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस) की मदद से दुर्घटनाओं को कम किया जा सकेगा.

ये भी पढ़ें-

गाड़ी में एक्स्ट्रा बल्ब नहीं, टूटे हैं गाड़ी के शीशे तो भरना पड़ेगा जुर्माना, जानें चालान के खास नियम

ड्रेस कोड नहीं फॉलो करने पर काटा गया ड्राइवर का चालान

Related Posts