आर्थिक सर्वेक्षण आज संसद में होगा पेश, इन सेक्टर्स पर रहेगा ध्यान

आर्थिक सर्वेक्षण बजट से एक दिन पहले पेश किया जाता है और इसे वित्त मंत्री के मुख्य आर्थिक सलाहकार तैयार करते हैं.

नई दिल्ली: आज मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आर्थिक सर्वेक्षण संसद में पेश होगा. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में आर्थिक सर्वे पेश करेंगी.

दरअसल आर्थिक सर्वेक्षण के ज़रिए साल भर का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया जाता है. इतना ही नहीं सर्वेक्षण से आम बजट की रूप रेखा का और अगले वित्तवर्ष के नीतिगत निर्णयों के बारे में पता चलता है. इतना ही नहीं विगत वर्षों में देश की अर्थव्यवस्था कैसी रही इसका अंदाज़ा भी इसी सर्वे से लगता है.

आर्थिक सर्वे में अर्थव्यवस्था, फिस्कल डेवलपमेंट, मॉनेटरी मैनेजमेंट, कृषि, निर्यात, उद्योग, इंफ्रास्टक्चर, सेवा क्षेत्र, सोशल इंफ्रास्ट्राक्चर, रोजगार आदि पर जोर रहता है.

बता दें कि आर्थिक सर्वेक्षण बजट से एक दिन पहले पेश किया जाता है और इसे वित्त मंत्री के मुख्य आर्थिक सलाहकार तैयार करते हैं. इस बार आर्थिक सर्वे देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यन ने तैयार किया है.

मंगलवार को सुब्रमण्यन ने ट्वीट किया, ‘अपना पहला और नई सरकार का भी पहला आर्थिक सर्वे संसद में गुरुवार को पेश करने को लेकर उत्साहित हूं.’

और पढ़ें- ‘उत्तराधिकार में मिली संपत्ति पर लगेगा टैक्स, 35 साल बाद दोबारा लागू होगा कानून’ 

पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यन के पद छोड़ने के करीब छह महीने बाद पिछले साल दिसंबर में केवी सुब्रमण्यन को यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी. मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण शुक्रवार को संसद में पेश करेंगी.