चार दिन और बढ़ाई गई कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी की ED हिरासत

रतुल पुरी को दिल्ली की एक अदालत ने छह दिनों के लिए ED की हिरासत में भेज दिया. दिल्ली की अदालत ने सोमवार को चार और दिनों के लिए उनकी हिरासत बढ़ा दी.

दिल्ली की एक अदालत ने शुक्रवार को मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में व्यापारी रतुल पुरी की ED हिरासत चार दिन और बढ़ा दी. यह मनी लॉन्ड्रिंग का मामला उनकी कंपनी मोजर बेयर इंडिया लिमिटेड (MBIL) से जुड़े बैंक धोखाधड़ी से संबंधित है. रतुल को ED ने 20 अगस्त को गिरफ्तार किया था.

ED ने ऐसा रतुल और अन्य के खिलाफ धनशोधन रोकथाम अधिनियम (PMLA) के तहत मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया. यह PMLA का मामला CBI द्वारा मोजर बेयर इंडिया लिमिटेड के खिलाफ FIR पर आधारित है. पुरी, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भतीजे हैं.

रतुल पुरी को दिल्ली की एक अदालत ने छह दिनों के लिए ED की हिरासत में भेज दिया. दिल्ली की अदालत ने सोमवार को चार और दिनों के लिए उनकी हिरासत बढ़ा दी. उन्हें विशेष CBI जस्टिस संजय गर्ग के सामने शुक्रवार को पेश किया गया.

ED के विशेष वकील विकास गर्ग और डी.पी.सिंह ने सोमवार को अदालत में तर्क दिया कि किस तरह से पुरी के वकील विजय अग्रवाल जांच को देरी करने की कोशिश कर रहे हैं. अग्रवाल ने शुक्रवार को कहा, “ED के साथ सहयोग के प्रयास में हम रिमांड का विरोध नहीं कर रहे हैं.” विशेष लोक अभियोजक (SPP) डी.पी.सिंह ने कहा कि 11 और गवाहों का सामना कराया जाना है और इसलिए रतुल की हिरासत को बढ़ाने की मांग की गई.

CBI ने रतुल पुरी, उनकी कंपनी, उनके पिता और प्रबंध निदेशक दीपक, निदेशकों नीता पुरी (उनकी मां व कमलनाथ की बहन), संजय जैन व विनीत शर्मा पर कथित तौर पर आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी, जालसाजी और भ्रष्टाचार को लेकर मामला दर्ज किया है. ED 3600 करोड़ रुपये के अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले में भी रतुल पुरी से पूछताछ करना चाहती है.

ये भी पढ़ें: 12 आयुष विशेषज्ञों के सम्मान में डाक टिकट जारी कर PM मोदी ने कहा, ‘ये बदलाव हुए हैं न्यू इंडिया में’