मनी लॉन्‍ड्रिंग मामले में ED ने वाड्रा की जमानत याचिका का किया विरोध, कहा पूछताछ करना जरूरी है

ED ने कहा हम रॉबर्ट वाड्रा का शोषण नहीं कर रहे, पूछताछ के लिए वे खुद हजार लोगों की भीड़ लेकर आते हैं.

नई दिल्ली: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी(Rahul Gandhi) के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा(Robert Vadra) की जमानत याचिका पर दिल्ली की पटियाला हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है. इस मामले की अगली सुनवाई 1 अप्रैल को होगी. रॉबर्ट वाड्रा की जमानत याचिका का विरोध करते हुए ED ने कोर्ट को बताया कि मामले पर सुनवाई के दौरान वाड्रा सहयोग नहीं कर रहे हैं इसलिए वह उन्हें हिरासत में रखना चाहती है.

ED के वकील डीपी सिंह ने कहा कि ‘हमें हिरासत में पूछताछ की जरूरत है, हमारे पास वाड्रा के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं. रॉबर्ट वाड्रा के साथ संजय भंडारी भी इस मामले में आरोपी है. हालांकि भंडारी किसी तरह देश से फरार हो गया है और अभी लंदन में है.

रॉबर्ट वाड्रा के द्वारा ED के ऊपर लगाए गए शोषण के आरोपों पर सफाई देते हुए ED ने कहा कि वाड्रा जब भी कोर्ट आते हैं उनके साथ हजार लोग होते हैं, उनकी पत्नी उन्हें ईडी दफ्तर पहुंचाने और ले जाने आती हैं, उनके साथ मीडिया का हुजूम होता है. ED ने पूछा अब कोर्ट बताए कौन-किसका शोषण कर रहा है.

ED ने कहा कि रॉबर्ट वाड्रा ने आज तक अपनी संपत्ति का स्रोत नहीं बताया, उनके व्यापर पर भी संदेह है. जमानत याचिका का विरोध करते हुए ED ने कहा अगर अब हम मामले को छोड़ देंगे तो जांच प्रभावित होगी, वाड्रा भाग भी सकता है और साक्ष्य भी मिटा सकता है. हमें वाड्रा को हिरासत में लेकर पूछताछ करना है और ये बहुत जरूरी है.