‘मैं भी चौकीदार’ लिखे कप के इस्तेमाल पर चुनाव आयोग ने रेलवे को भेजा नोटिस

कल काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे यात्रियों द्वारा पेपर कप की तस्वीर के साथ किया गया ट्वीट वायरल होने पर रेलवे ने कहा था कि उसने कप हटा लिए हैं.

नई दिल्ली: काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में यात्रा कर रहे एक यात्री द्वारा ‘मैं भी चौकीदार’ नारा लिखे पेपर कप की तस्वीर के साथ किया गया ट्वीट वायरल होने के बाद चुनाव आयोग(Election Commission) ने रेलवे को नया कारण बताओ नोटिस जारी किया है. रेलवे ने ऐसे कप की तस्वीरें वायरल होने के बाद नारे वाले कपों को हटा लिया था और ठेकेदार को दंडित किया था.

आचार संहिता का किया उल्लंघन
चुनाव आयोग(EC) के सूत्रों ने बताया कि रेलवे को आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर शनिवार शाम तक विस्तृत जवाब देने के लिए कहा गया है. इसके लिये जो व्यक्ति जिम्मेदार है उसके बारे में भी उसे बताने को कहा गया है. इस मामले में चुनाव आयोग(EC) ने चुनाव आचार संहिता की नियमावली से सत्ता में मौजूद पार्टी से संबंधित नियम लगाये हैं, क्योंकि इससे पता चलता है कि सत्तारूढ़ पार्टी ने चुनावी प्रचार के लिये सरकारी यातायात सेवा का इस्तेमाल किया है.

कल किया था दंडित
IRCTC के प्रवक्ता ने कल पीटीआई को बताया था कि ‘उन खबरों की जांच की गई जिनमें कहा गया कि ‘मैं भी चौकीदार’ लेबल वाले कपों में चाय दी गई. यह IRCTC की बिना पूर्व मंजूरी के किया गया. सुपरवाइजर/पैंट्री प्रभारियों से ड्यूटी में लापरवाही बरतने को लेकर स्पष्टीकरण मांगा गया है.’ उन्होंने कहा, ‘सेवा प्रदाता पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया. इस कदाचार के लिए सेवा प्रदाता को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया था.’ ऐसा दावा किया गया कि इन कपों में दो बार चाय दी गई. कप पर विज्ञापन एनजीओ ‘संकल्प फाउंडेशन’ ने दिया था.

एयर इंडिया ने भी की थी चूक
कुछ दिन पहले एयर इंडिया ने अपने बोर्डिंग पास पर वाइब्रेंट गुजरात समिट का विज्ञापन दे दिया था, जिस पर नरेंद्र मोदी और गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी की तस्वीरें भी थीं. बाद में इस पर सफाई देते हुए कहा गया कि यह अनजाने में हुई गलती है.