अगस्ता वेस्टलैंड केस: ED ने रतुल पुरी को कोर्ट में किया पेश, 14 दिन की मांगी रिमांड

कोर्ट अब ED की केस डायरी देखेगी और 4 बजे रतुल पुरी की फॉर्मल अरेस्टिंग को चुनौती देने और ED द्वारा रतुल पुरी की 14 दिन की रिमांड की अर्जी दोनों पर फैसला सुनाएगी.

नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर के मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कारोबारी रतुल पुरी को राउज एवेन्यू कोर्ट में आज पेश किया. रतुल पुरी की अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर सौदा मामले में सरेंडर करने की याचिका पर सुनवाई हुई.

कोर्ट ने सुनवाई शुरू करने से पहले रतुल पुरी को अपनी पत्नी से 10 मिनट मिलने की इजाजत दी. रतुल पुरी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा कि हमें ED ने अरेस्ट के ग्राउंड्स अभी तक नहीं दिए गए हैं. कोर्ट ED की गिरफ्तारी को गैरकानूनी घोषित करें.

14 दिन का रिमांड मांगी

ED ने अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कल रतुल पुरी को पेशी के दौरान कोर्ट से पूछताछ की इजाज़त मिलने के बाद पुरी को फॉर्मल अरेस्ट कर लिया था. इसी के बिहाफ पर आज ED ने कोर्ट से पुरी का 14 दिन का रिमांड मांगी है.

‘रिमांड का तो सवाल ही नहीं उठता’

जिस पर पुरी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा कि उनके मामले में पुरी के गिरफ्तारी के ग्राउंड नहीं बताए गए और ना ही लिखित में कोई दस्तावेज दिया गया. लिहाजा इस गिरफ्तारी को अवैध घोषित किया जाए. रिमांड का तो सवाल ही नहीं उठता.

ED के वकील डीपी सिंह ने कोर्ट को बताया कि पुरी की फॉर्मल अरेस्टिंग के बारे में कल ही कोर्ट को आरोपी रतुल पुरी और उनके परिजनों की मौजूदगी में इंफोर्मेशन दे दी थी.

‘सरेंडर की अर्जी दी जाती है’

डीपी सिंह ने कहा, रतुल पुरी की तरफ से इसी कोर्ट में अगस्ता वेस्टलैंड मामले में सरेंडर की अर्जी दी जाती है. सभी तथ्यों को जानते बूझते. लेकिन फॉर्मल अरेस्टिंग पर कहते हैं कि कुछ आश्चर्यजनक हो गया! जबकि ओरल इंफोर्मेशन कोर्ट के सामने दे दी गई थी.

‘गिरफ्तारी किन आधार पर की जा रही’

रतुल पुरी के वकील विजय अग्रवाल ने कहा, पुरी ने सरेंडर एप्लिकेशन दी, गैर जमानती वारंट भी जारी हुआ. हमने उसे भी कैंसिल करवाने की कोशिश की, लेकिन मेरी गिरफ्तारी किन आधार पर की जा रही है, ये तो मुझे बताया जाना चाहिए था.

कोर्ट को बताया वो अलग लेकिन मुझे तो गिरफ्तारी की वजह बतानी चाहिए थी. मुझे कोई दस्तावेज नहीं दिया गया, अगर दिया गया था तो रिसिविंग दिखाओ. इस दौरान ED की रिमांड एप्लिकेशन पर बहस हुई.

‘मनी ट्रेल का पता लगाना है’

ED के वकील डीपी सिंह ने कहा रतुल पुरी ने क‌ई स्त्रोतों से पैसा लिया है, पुरी के ईमेल में इसकी जानकारी है, हमें मनी ट्रेल का पता लगाना है. क‌ई लोगों से आमना-सामना कराना है इसके लिए हमें रतुल पुरी की 14 दिन की रिमांड चाहिए.

विजय अग्रवाल ने कहा, ED की रिमांड का विरोध करते हुए कहा की जो बात ED जानना चाहती है वो बात पुरी से कोर्ट में पूछ लें, क्या ED पुरी को थर्ड डिग्री देना चाहती है? ED बताए कि पुरी कितनी बार ED के सामने पेश हुए, PMLA के सेक्शन 50 बयान में देख लें, जो चीजें पहले नहीं पता चली अब कैसे पता चलेगी?

‘पुरी के पास चुप रहने का अधिकार है’

विजय अग्रवाल ने कहा जिन कंपनियों और ईमेल की बात कर रहे हैं वो पुरी की है ही नहीं. पुरी के पास चुप रहने का अधिकार है. हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी के बाद में पुरी एक मामले की पूछताछ के लिए गए, लेकिन गिरफ्तारी दूसरे मामले में कर ली गई.

‘हमारे पास पूरी डायरी है’

ED की तरफ से दलील में कहा गया हमें अभी तक जितने सबूत मिले हैं सब बताया है, किससे कितना पैसा मिला. हमारे पास पूरी डायरी है, ये कहते हैं कि ये ईमेल मेरे नहीं है, हम कैसे मान लें, अपना नंबर तक नहीं दे रखा.

कोर्ट 3 बजे ED की केस डायरी देखेगी और 4 बजे रतुल पुरी की फॉर्मल अरेस्टिंग को चुनौती देने और ED द्वारा रतुल पुरी की 14 दिन की रिमांड की अर्जी दोनों पर फैसला सुनाएगी.

ये भी पढ़ें- एयरसेल मैक्सिस केस: पी चिदंबरम और बेटे कार्ति को अग्रिम जमानत, बिना इजाजत विदेश जाने पर रोक

ये भी पढ़ें- ‘एक झूठ बोलने में कोई नुकसान नहीं… जब अयोध्या में मंदिर की ज़मीन ज़बरदस्ती छीनी गई हो’