सुषमा स्वराज का निधन, जानिए अंतिम ट्वीट से आखिरी सांस तक का पूरा घटनाक्रम, VIDEO

सुषमा स्वराज संसद में जब बोलने के लिए खड़ीं होतीं थीं तो विपक्ष भी शांत होकर सुनता था. 2014 में सुषमा स्वराज को बेहद अहम विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.

नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का देर शाम आकस्मिक निधन हो गया. दिल्ली के AIIMS में उन्होंने अंतिम सांस ली. खबरों के मुताबिक देर शाम वो अपने घर में गिर गईं थी. जिसके तुरंत बाद उनको अस्पताल लाया गया था. बताया जा रहा है कि जब उनको अस्पताल ले जाया गया था तभी उनका निधन हो चुका था.

आज का घटनाक्रम
1- शाम 7 बजकर 23 मिनट में सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर खुशी जताई. उन्होंने लोकसभा में आर्टिकल 370 पास होने के बाद बेहद भावनात्मक ट्वीट किया था. उन्होंने लिखा था कि “प्रधान मंत्री जी – आपका हार्दिक अभिनन्दन. मैं अपने जीवन में इस दिन को देखने की प्रतीक्षा कर रही थी. ”
2- सूत्रों के मुताबिक देर शाम खबर आई कि वो अपने घर में गिर गईं थी. जिसके बाद उनको एम्स लाया गया था.
3- तकरीबन कुछ ही देर बाद उनकी हालत बेहद नाजुक बताने जाने लगी थी. बताया जा रहा था कि हार्ड अटैक आया है.
4- तकरीबन 11 बजे खबर आने लगी कि उनको वेंटिलेटर पर रखा गया है. उनकी हालत लगाताकर बिगड़ती जा रही थी.
5- इसके तुरंत बाद सोशल मीडिया में उनके देहांत की खबर आने लगीं.
6- इसके बाद भी अस्पताल की तरफ से किसी भी तरह की पुष्टि नहीं की गई.
7- डॉक्टरों की कई टीमें उनके उपचार में लगीं हुई थी. लेकिन उनकी हालत नाजुक होती जा रही थी.
8- कुछ ही देर पहले खबर आई कि इन्होंने इस दुनिया को अलविदा बोल दिया है.

सुषमा स्वराज संसद में जब बोलने के लिए खड़ीं होतीं थीं तो विपक्ष भी शांत होकर सुनता था. 2014 में सुषमा स्वराज को बेहद अहम विदेश मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. सुषमा ने इस जिम्मेदारी को बाखूबी निभाया. सुषमा स्वराज के बारे में कहा जाता है कि वो जितनी दफ्तर में एक्टिव में रहती थीं उतना ही वो ट्विटर पर भी एक्टिव रहती थी. 2019 लोकसभा चुनावों में उन्होंने खुद पार्टी को चिट्ठी लिखकर चुनाव न लड़ने का आग्रह किया था. उन्होंने इसके पीछे अपनी सेहत का हवाला दिया था.

सुषमा स्वराज ने मोदी सरकार पार्ट-1 में बतौर विदेश मंत्रालय संभालते हुए कई विदेशी दौरों में गईं. इस दौरान उन्होंने वहां अपने ओजस्वी भाषण और वाकपटुता से विदेशों में भी लोहा मनवा दिया था. सुषमा स्वराज ने पासपोर्ट सिस्टम को आसान बनाने के लिए क्रांतिकारी पहल की. विदेशों में फंसे भारतीयों के एक ट्वीट करने भर से सुषमा एक्टिव हो जाती थीं.

ये भी पढ़ें- निधन से कुछ देर पहले ही सुषमा स्‍वराज ने पीएम मोदी के नाम लिखा आखिरी भावुक संदेश

ये भी पढ़ें- 25 साल की उम्र में बनी थीं कैबिनेट मंत्री, पढ़ें सुषमा स्‍वराज का सफरनामा

ये भी पढ़ें- LIVE: सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर AIIMS से घर ले जाया गया, दोपहर 3 बजे होगा अंतिम संस्कार