करतारपुर साहिब जाने वाले पहले जत्‍थे में श्रद्धालु के तौर पर शामिल होंगे मनमोहन-अमरिंदर

मनमोहन सिंह और अमरिंदर सिंह की इस यात्रा का पाकिस्‍तान से कोई लेना-देना नहीं होगा. वे पाकिस्‍तान के न्‍योते पर करतारपुर साहिब नहीं जा रहे हैं बल्कि श्रद्धालु के तौर पर सिर्फ दर्शन करने जा रहे हैं.
first jatha to Kartarpur Sahib, करतारपुर साहिब जाने वाले पहले जत्‍थे में श्रद्धालु के तौर पर शामिल होंगे मनमोहन-अमरिंदर

नई दिल्‍ली: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं के पहले जत्‍थे में शामिल होंगे. पंजाब सरकार के सूत्रों के मुताबिक मनमोहन और अमरिंदर कारतारपुर साहिब कॉरिडोर का इस्‍तेमाल करते हुए बाबा नानक के दरबार में जाएंगे और मत्‍था टेककर लौट आएंगे.

सूत्रों के मुताबिक, मनमोहन सिंह और अमरिंदर सिंह की इस यात्रा का पाकिस्‍तान से कोई लेना-देना नहीं होगा. वे पाकिस्‍तान के न्‍योते पर करतारपुर साहिब नहीं जा रहे हैं बल्कि श्रद्धालु के तौर पर सिर्फ दर्शन करने जा रहे हैं. दरअसल, कुछ दिनों पहले खबर आई थी कि करतारपुर साहिब कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए पाकिस्‍तान मनमोहन सिंह को न्‍योता देने वाला है. इस खबर पर कांग्रेस ने रुख स्‍पष्‍ट कर दिया कि अगर पाकिस्‍तान से न्‍योता आया तो मनमोहन सिंह उसे स्‍वीकार नहीं करेंगे. इसके बाद गुरुवार को दिनभर मनमोहन सिंह के करतारपुर साहिब जाने को लेकर अटकलों का बाजार गर्म रहा.

सबसे पहले खबर आई मनमोहन सिंह करतारपुर साहिब जाएंगे और दर्शन कर लौट आएंगे. हालांकि, इसमें स्‍पष्‍ट था कि मनमोहन सिंह सिर्फ दर्शन के लिए जाएंगे, पाकिस्‍तान के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल होने नहीं.

मनमोहन सिंह के करतारपुर साहिब जाने की खबर पर गुरुवार दोपहर को अमरिंदर सिंह का बयान आया, जिसमें उन्‍होंने कहा, ‘मैं करतारपुर साहिब नहीं जाऊंगा, मुझे लगता है कि मनमोहन सिंह भी ऐसा ही करेंगे.’

अमरिंदर सिंह के इस बयान के बाद पंजाब सरकार के सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि मनमोहन सिंह और अमरिंदर दोनों करतारपुर साहिब जाएंगे, लेकिन सिर्फ श्रद्धालु की हैसियत से और उनका पाकिस्‍तान के उस उद्घाटन कार्यक्रम से कोई लेना-देना नहीं होगा, जिसके लिए ऐसी खबरें आ रही थीं कि पाकिस्‍तान पूर्व पीएम मनमोहन सिंह को इसके लिए न्‍योता भेजेगा.

कांग्रेस नेता तारिक अनवर ने कहा कि मनमोहन सिंह पाकिस्‍तान के निमंत्रण पर करतारपुर साहिब नहीं जाएंगे, लेकिन भारत सरकार सर्वदलीय डेलिगेशन भेजेगी तो उसमें वह दर्शन के लिए जा सकते हैं.

दूसरी ओर गुरु नानक देव की 55वीं जयंती के मौके पर भारत में बड़े समारोह का भी आयोजन होगा. इस कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी भी शिरकत करेंगे. पीएम मोदी के अलावा प्रकाश पर्व के मौके पर राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद भी मौजूद रहेंगे.

Related Posts