राजीव गांधी ने नहीं किया छुट्टियां बिताने के लिए INS विराट का इस्तेमाल- पूर्व रियर एडमिरल का दावा

रिपोर्ट के मुताबिक दिसंबर 1987 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी परिवार के साथ लक्षद्वीप गए थे उनके साथ अमिताभ और जया बच्चन भी थे.

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) पर INS विराट का टैक्सी की तरह इस्तेमाल करने का आरोप लगाने के बाद आज पूर्व रियर एडमिरल कपिल गुप्ता ने इन आरोपों पर सफाई देते हुए कहा कि, राजीव गांधी उस वक्त वहां आए थे लेकिन यह कहना कि उन्होंने INS विराट का इस्तेमाल छुट्टियां बिताने के लिए किया था, गलत है.

रुटीन प्रक्रिया का हिस्सा है PM का आना

कपिल गुप्ता (Rear admiral Kapil Gupta) ने बताया कि जब राजीव गांधी की छुट्टियों की शुरुआत हुई थी तब वहां प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए एक जहाज को छोड़कर वहां पर और कोई जहाज नहीं था. उन्होंने बताया कि INS विराट तब वहां नहीं था. उन्होंने बताया कि यह रुटीन प्रक्रिया का हिस्सा है. जब राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री या रक्षा मंत्री सेना की अलग-अलग यूनिट्स को विजिट करने आते हैं तो नेवी भी उन्हें अपने जंगी जहाज दिखाने ले जाती है. 1-2 दिन उन्हें समुद्र में ले जाकर नेवी की क्षमता से अवगत कराया जाता है. इस प्रक्रिया में अगर वे चाहें तो अपने परिवार को भी ले जा सकते हैं, इसमें कोई गलती नहीं है.

ये भी पढ़ें, विराट है INS Virat का इतिहास, जहाज़ पर बसता था छोटा शहर; ख़ासियत जानकर हो जाएंगे हैरान

‘हर प्रधानमंत्री परिवार के साथ आता है’

उन्होंने बताया कि हर प्रधानमंत्री अपने साथ अपने परिवार को लेकर आता है. कपिल गुप्ता ने कहा कि, मैं दूसरे जहाज पर था इसलिए मैं नहीं जानता कि अमिताभ बच्चन वहां आए थे या नहीं. उन्होंने कहा कि जब राजीव गांधी का ऑफिसीयल टूर खत्म हुआ तो INS विराट वापस जा चुका था और सिर्फ एक जहाज वहां था जो उनकी सिक्योरिटी के लिए था. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा पहले लक्षद्वीप पुलिस के जिम्मे थी और उसके बाद के लिए एक जहाज उन्हें मुहैया कराया गया था.

रामलीला मैदान में लगाया था आरोप

पूर्व रियर एडमिरल कपिल गुप्ता ने बताया कि यह मुद्दा लगभग 31 साल पुराना है. इस घटना को उस समय इसलिए चैलेंज नहीं किया गया था क्योंकि उस वक्त नेवी को मीडिया से बातचीत करने की छूट नहीं थी. आपको बता दें बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के रामलीला मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए राजीव गांधी पर INS विराट का इस्तेमाल टैक्सी की तरह करने और देश की सुरक्षा से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया था.

और पढ़ें, जवाहर लाल नेहरू ने भी परिवार संग INS दिल्ली युद्धपोत में फरमाया था आराम

मोदी ने टैक्सी की तरह इस्तेमाल करने का लगाया था आरोप

पीएम मोदी ने कहा था कि, “क्या आपने सुना है कि कोई अपने परिवार के साथ युद्धपोत से छुट्टियां मनाने जाये ? आप इस सवाल से हैरान मत होइए, ये हुआ है और हमारे ही देश में हुआ है. कांग्रेस के नामदार परिवार ने आईएनएस विराट का व्यक्तिगत टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया, उसका अपमान किया था. ये बात तब की है जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे और 10 दिन की छुट्टियां मनाने निकले थे. राजीव गांधी के साथ छुट्टी मनाने वालों मे, उनकी ससुराल वाले यानि इटली वाले भी शामिल थे. सवाल ये कि क्या विदेशियों को भारत के वॉरशिप पर ले जाकर तब देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया गया था? या सिर्फ इसलिए क्योंकि वो राजीव गांधी की ससुराल के लोग थे.”

बंगाराम द्वीप गए थे छुट्टियां बिताने

राजीव गांधी दक्षिण भारत में कोचीन से 465 किलोमीटर पश्चिम की ओर लक्षद्वीप के पास स्थित एक बेहद खूबसूरत आईलैंड है, जिसका नाम बंगाराम है, वहां छुट्टियां मनाने गए थे. यह पूरा द्वीप निर्जन है. 0.5 स्क्वायर किलोमीटर एरिया में फैले इस द्वीप का चयन भी सोच-समझकर किया गया था. यहां विदेशी नागरिकों के आने पर किसी तरह की कोई पाबंदी नहीं है. लक्षद्वीप के तत्कालीन पुलिस चीफ पीएन अग्रवाल का कहना था कि ये बंगाराम द्वीप बेहद सुरक्षित और दुनिया से एक तरह से कटा हुआ इलाका है. इस इलाके की भौगोलिक स्थिति ऐसी है कि यह बेहद सुरक्षित है.

रियर एडमिरल कपिल गुप्ता नेशनल डिफेंस एकेडमी, रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज और नौसेना युद्ध कॉलेज के पूर्व छात्र हैं. उन्हें 01 जनवरी 1979 को भारतीय नौसेना में नियुक्त किया गया था और उन्होंने नेविगेशन और डायरेक्शन में विशेषज्ञता हासिल की थी.

ये भी पढ़ें, ‘राजीव गांधी ने INS विराट को टैक्सी बना दिया, मनाई छुट्टियां’: PM मोदी का आरोप