EXCLUSIVE: इमरान को राजनाथ की दो टूक, कहा- आतंकियों के साथ खड़े पाक को किस बात का सबूत?

 नयी दिल्ली। पुलवामा हमलों पर अपने को पाक साफ़ बताने वाले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने करारा वार किया है. उन्होंने दो टूक शब्दों में पाकिस्तान को आतंकवाद का गढ़ करार दिया. भारत को युद्ध की इमरान खान की धमकी के बाद टीवी9भारतवर्षडॉटकॉम को दिए Exclusive इंटरव्यू में गृह मंत्री […]

नयी दिल्ली। पुलवामा हमलों पर अपने को पाक साफ़ बताने वाले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने करारा वार किया है. उन्होंने दो टूक शब्दों में पाकिस्तान को आतंकवाद का गढ़ करार दिया. भारत को युद्ध की इमरान खान की धमकी के बाद टीवी9भारतवर्षडॉटकॉम को दिए Exclusive इंटरव्यू में गृह मंत्री ने इमरान की बदजुबानी पर खुल्लमखुल्ला चोट की और पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्यवाही के स्पष्ट संकेत दिए.

गृह मंत्री ने कहा दुनिया जानती है कि आतंक के सारे अड्डे पाकिस्तान में हैं, इमरान खान बस अपनी फेस सेविंग कर रहे हैं. वे इंटरनेशनल कम्युनिटी को मैसेज देना चाहते हैं कि हम बिल्कुल निर्दोष हैं पर भारत ही नही सारी दुनिया जानती है कि आतंक को लेकर जो कुछ हो रहा है, उसमें पाकिस्तान की ही अहम भूमिका है. सारी गतिविधियां वहीं से चलतीं हैं.

राजनाथ सिंह ने इमरान को अविश्वसनीय करार देते हुए कहा कि ये दुर्भाग्य है कि उन्होंने एक बार भी हमलों की निंदा नहीं की. ऐसे प्रधानमंत्री की बातों पर कोई क्या यक़ीन करे! राजनाथ सिंह ने कहा कि जो कुछ भी उनको बोलना था उन्होंने बोल दिया है. पर जो हमने सोचा है, कहा है, देश की जनता को उस पर विश्वास है. उन्होंने बड़ा संकेत देते हुए कहा कि अब आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का वक़्त आ गया है. इंटरनेशनल कम्युनिटी को भी आतंकवाद के सवाल पर एक मंच पर आना चाहिए.

पाकिस्तान के सीनियर मिनिस्टर आतंकियों के साथ
राजनाथ सिंह ने इमरान खान की मंशा पर सवाल खड़े किए और पाकिस्तान की नीयत को चुनौती दी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को हमने 26/11 के भी सबूत दिए. उरी के भी सबूत दिए. इन सबको अंजाम देने वालों के अड्डे पाकिस्तान में हैं. ये उनको भी पता है. सबसे खास बात यह है कि पाकिस्तान के सीनियर मिनिस्टर उनके साथ मंच शेयर करते हैं. भाषण देते हैं. इससे बड़ा कोई दूसरा सबूत और नहीं हो सकता. आतंकियों के साथ कोई मंच शेयर करे और इसके बाद भी कहें कि हमें प्रमाण चाहिए, तो इसका कोई औचित्य नहीं है.

पत्थरबाजों ने तोड़ा भरोसा, अब होगी कार्यवाही
पुलवामा हमले में चूक के सवाल पर राजनाथ सिंह ने जांच की बात की. उन्होंने कहा कि इन्वेस्टिगेशन अभी चल रही है. हमने जांच NIA को सौंप दी है. जांच पूरी होने के बाद सारी बातें सामने आ जाएंगी. हालांकि कुछ मुझे भी पता है. हम अपने जवानों के बलिदान को व्यर्थ नही जाने देंगे. कश्मीर के पत्थरबाजों पर भी राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान दिया. उन्होंने कहा कि घाटी में पत्थरबाजों को हमने सदाशयता दिखाई, पर उन्होंने सकारात्मक रिस्पॉन्स नही दिया. अब इसके बाद जो सरकार को करना चाहिए, वो सरकार करेगी.
, EXCLUSIVE: इमरान को राजनाथ की दो टूक, कहा- आतंकियों के साथ खड़े पाक को किस बात का सबूत?

कुछ आतंकी घाटी के भी, पर विदेशी आतंकी भी शामिल
घाटी के भीतर पनप रही मिलिटेंसी के बारे में भी राजनाथ ने खुलकर बात की. उन्होंने साफ कहा कि कुछ यहां के भी मिलिटेंट हो सकते हैं, इस संभावना से इंकार नही है. पर सारे आतंकी घरेलू नही हैं. फॉरेन टेररिस्ट का हाथ है. राजनाथ सिंह ने पुलवामा हमले में शहीद हुए जवान के पार्थिव शरीर को कंधा दिया था. इस बाबत उन्होंने कहा कि ये उनके जमीर की आवाज थी. उनके जमीर ने जो कहा, उन्होंने वही किया. जो देश के लिए बलिदान दे रहा है उसे कंधा देना, मेरा नैतिक दायित्व है.

भरोसा टूटने नहीं देंगे, होगा एक्शन
आतंकवादियों को मुंहतोड़ जवाब देने के एक सवाल पर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा आर्मी ने साफ कर दिया है कि जो भी बंदूक उठाएगा, उसे जान से हाथ धोना पड़ेगा. इससे बड़ा संकेत और कुछ नही हो सकता. हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दो टूक शब्दों में कह दिया है. देश की जनता उस पर यकीन रखती है. बहुत खुलकर बोलना उचित नही है पर पीएम ने जो भी कहा है, देश की जनता को उस पर विश्वास है. देश की जनता का भरोसा टूटने न पाए कोशिश यही होगी.

तथागत रॉय ने जो कहा वो उनकी भावना
कश्मीरियों पर मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय के ट्वीट पर राजनाथ सिंह ने कोई भी कमेंट करने से इंकार कर दिया. उन्होंने कहा ये उनकी भावना है, जिसे उन्होंने एक्सप्रेस किया है.

अमेरिका के समर्थन का स्वागत
राजनाथ सिंह ने अमेरिकी एनएसए जॉन बॉल्टन के भारत को सेल्फ डिफेंस का पूरा अधिकार है, वाले बयान का स्वागत किया. बकौल राजनाथ जो अमेरिका ने कहा, वह सही कहा है. हमें आत्मरक्षा का अधिकार है, उन्होंने पहले गोली न चलाने मगर जवाब में गोली न रुकने के अपने पुराने बयान पर भी बात की और कहा कि यही होगा.