Exclusive: हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर के बाद लाश को 20 मिनट तक जलाते रहे चारों कातिल, पढ़ें- पूरा कबूलनामा

पुलिस के मुताबिक जांच के दौरान मुख्य आरोपी मोहम्मद आरिफ ने आदतन खतरनाक कातिल होने की बात कबूली थी.

हैदराबाद में महिला वेटरनरी डॉक्टर के गैंगरेप और मर्डर के बाद हत्यारे 20 मिनट तक उसकी लाश को जलते देखते रहे. वहीं गैंगरेप से पहले अगवा पीड़िता के मुंह में जबरन शराब उड़ेलकर बेहोश किया गया था. साइबराबाद पुलिस ने सोमवार को यह सनसनीखेज खुलासा किया है.

पुलिस ने दावा किया है कि महिला डॉक्टर के कातिलों ने उनके सामने कबूलनामे में ये बातें मानी है. पुलिस के मुताबिक जांच के दौरान मुख्य आरोपी मोहम्मद आरिफ ने आदतन खतरनाक कातिल होने की बात कबूली थी. आरिफ ने पुलिस के सामने कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में रेप की तीन से चार वारदातों को अंजाम देने की बात कबूली है. पुलिस इसकी पुष्टि करने के लिए जांच करवा रही है.

पुलिस के मुताबिक कातिलों ने इसके अलावा पूरी घटना का दिल दहला देने वाला ब्योरा बताया है. दिशा के कातिलों का पुलिस के सामने कबूलनामा –

  • दिशा की लाश को पेट्रोल और ट्रक से निकाले गए डीजल से जलाया गया. करीब 20 मिनट तक घटनास्थल पर खड़े होकर चारों आरोपी लाश को जलता हुआ देखते रहे.
    वारदात को अंजाम देने के बाद जब सभी आरोपी अपने घर पहुंचे तो परिवारवालों को बताया था कि हमसे ट्रक एक्सीडेंट में एक लड़की की मौत हो गई है.
    इसके पहले वे लोग 26 नवंबर की शाम शमशाबाद टोल के पास ट्रक लेकर पहुंचे. लॉरी यानी ट्रक बुक नहीं हुआ था. मालिक श्रीनिवासन रेड्डी ने वहीं रुकने के लिए बोला था.
    अगले दिन यानी 27 नवंबर की शाम 5 बजे शराब पीनी शुरू की. चारों आरोपी मोहम्मद आरिफ, जोलु शिवा, जोलु नवीन और चिन्नाकेश्वलु करीब डेढ़ बोतल शराब पी चुके थे.
    शाम करीब सवा 6 बजे दिशा (मृतका का बदला हुआ नाम) ने टोल प्लाजा के पास इनकी लॉरी के पीछे स्कूटी खड़ी की.
    दिशा ने चेहरे पर कपड़ा बांधा हुआ था. जैसे ही दिशा ने चेहरे से कपड़ा हटाया, चिन्नाकेश्वलु की नजर उस पड़ी. उसने मोहम्मद आरिफ की तरफ इशारा किया. तभी चारों ने दिशा को टारगेट करने का मन बना लिया था.
    स्कूटी खड़ी करने के बाद दिशा शेयरिंग कैब से डॉक्टर को दिखाने चली गयी थी, तभी पूरी प्लानिंग के साथ नवीन ने दिशा की स्कूटी की हवा निकली.
    रात करीब सवा 9 बजे दिशा वापस शमशाबाद टोल प्लाजा पहुंची. दिशा को लगा कि स्कूटी पंचर है. वह घबरा गई.
    तय साजिश के तहत मोहम्मद आरिफ उसके पास गया. पंचर लगवाने की बात बोला और भरोसा जीतने की कोशिश की.
    शिवा दिशा की स्कूटी में पंचर लगवाने चला गया. इसी बीच दिशा ने अपनी बहन से बात भी की, डर लगने की बात बोली. 10 मिनट बाद स्कूटी में हवा डलवाकर शिवा वापस लौटा. दिशा शिवा को पैसे देने लगी, सभी आरोपियों ने मददगार बनने का ढोंग कर पैसे लेने से इनकार कर दिया.
    तभी मौका पाकर सबसे पहले मोहम्मद आरिफ ने दिशा के चेहरे पर कपड़ा डालकर उसका मुंह दबा दिया. चारों मिलकर दिशा को जबरन टोल प्लाजा के नजदीक खाली प्लॉट में ले गए. वहां मोहम्मद और चिन्नाकेश्वलु ने जबरन दिशा के मुंह में शराब उड़ेली. कुछ देर बाद दिशा बेहोशी की हालत में आ गयी.
    किडनैपिंग के दौरान दिशा ने शोर मचाया था, लेकिन ट्रैफिक की आवाज़ में किसी ने नहीं सुना. गैंगरैप से पहले मोहम्मद आरिफ ने जबरन दिशा के मुंह में शराब उड़ेली, जिससे वो बेहोशी की हालत में आ गई. खाली प्लॉट में दिशा के साथ चारों ने गैंगरेप किया.
    उसके बाद करीब पौने 11 बजे चारों आरोपियों ने दिशा को बेहोशी की हालत में कंबल में लपेट कर ट्रक में डाला. शिवा और नवीन स्कूटी लेकर लॉरी के पीछे चलने लगे. इस बीच दिशा जिंदा थी. रास्ते में भी दिशा के साथ हैवानियत की गई.
    शिवा एनएच 44 से पेट्रोल खरीद कर चट्टनपल्ली की पुलिया के नीचे पहुंचा. मोहम्मद आरिफ और चिंताकुंता ने ट्रक से डीजल निकाला. इसी बीच दिशा के शोर मचाने पर मोहम्मद आरिफ ने उसकी दम घोंटकर हत्या कर दी.
    सुबह साढ़े 3 बजे पुलिया ने नीचे लाश को ठिकाने लगाने के लिए लाश पर पेट्रोल और डीजल दोनों डाले गए और आग लगा दी. करीब 20 मिनट तक लाश के पास खड़े होकर उसे जलता हुआ देखते रहे.

दूसरी ओर हैदराबाद एनकाउंटर के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई है. सुप्रीम कोर्ट बुधवार को इस मामले की सुनवाई करेगी. सुप्रीम कोर्ट के वकील जी एस मणि ने यह याचिका दाखिल की गई है. याचिका में हैदराबाद एनकाउंटर की निष्पक्ष जांच एजेंसी से जांच कराने की मांग की गई है. इसमें कहा गया है कि एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया गया.

ये भी पढ़ें –

हैदराबाद एनकाउंटर: NHRC ने की चारों शवों की जांच, परिवारों के बयान दर्ज

हैदराबाद एनकाउंटर पर उठ रहे सवालों के बाद अब क्या करेगी सरकार? जानिए क्या कहता है कानून