Exclusive : इस साल क्या-क्या करेगा RSS? बेंगलुरु में 1400 से ज्यादा अधिकारी करेंगे माथापच्ची

इस तीन दिवसीय बैठक में देशभर से संघ के लगभग 1400 प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे और कई राष्ट्रीय स्तर के महत्वपूर्ण मुद्दों पर प्रस्ताव पास किए जाएंगे. CAA, NRC और NPR जैसे मुद्दों पर भी होगी चर्चा.
RSS annual meeting at Bengaluru, Exclusive : इस साल क्या-क्या करेगा RSS? बेंगलुरु में 1400 से ज्यादा अधिकारी करेंगे माथापच्ची

संघ के उच्च अधिकारियों की 3 दिनों की बैठक बेंगलुरु में शुरू होने जा रही है. 15 से 17 मार्च तक संघ के सभी बड़े अधिकारी अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में हिस्सा लेंगे. संघ के सूत्रों का कहना है कि बेंगलुरु की बैठक में संघ के रुटीन मुद्दों और कार्यक्रम के अलावा देश के मौजूदा हालात खासकर नागरिकता कानून (CAA) और उसका विरोध, NPR लागू करने में आ रही अड़चन और NRC जैसे मुद्दों पर भी चर्चा होगी. इस बैठक में नागरिकता कानून पर मचे बवाल और दिल्ली में विरोध प्रदर्शन और उत्तर पूर्वी दिल्ली के दंगे जैसे विषयों पर भी चर्चा होगी.

बेंगलुरु की इस प्रतिनिधि सभा की बैठक से पहले बीजेपी में कार्यरत संघ के सभी संगठन मंत्रियों की बैठक दिल्ली में 5 मार्च को हो सकती है. मालूम हो कि करीब 4 दर्जन से ज्यादा प्रचारक अलग-अलग राज्यों में बीजेपी में कार्यरत हैं. संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में संघ की सालाना रणनीति बनाई जाती है. इस बैठक में इन बातों पर भी रणनीति बनेगी कि किस तरह से ज्यादा से ज्यादा लोगों तक RSS की पहुंच बढ़ाई जाए, कैसे संगठन का विस्तार उन जगहों तक किया जाए, जहां अब तक पहुंच नहीं बनी है. खासकर गरीबों की झुग्गी-झोपड़ियों तक.

संघ से जुड़ने के इनोवेटिव तरीकों पर होगी चर्चा

बैठक में चर्चा इस बात पर भी होगी कि कैसे संघ की शाखाओं में सुधार और विस्तार हो, कैसे सांगठनिक कामों को आगे बढ़ाया जाए, हर साल मई-जून में लगने वाले ट्रेनिंग कैंप्स में ज्यादा से ज्यादा भागीदारी बढ़े और कैसे इसे नए और इनोवेटिव तरीके को अलग-अलग प्रांतों में लागू किया जाए? अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा RSS की सबसे शक्तिशाली निर्णायक बॉडी है, जो सालभर में एक बार देश के अलग-अलग हिस्सों में बैठक कर तमाम निर्णय लेती है.

इस तीन दिवसीय बैठक में देशभर से संघ के लगभग 1400 प्रतिनिधि हिस्सा लेंगे और कई राष्ट्रीय स्तर के महत्वपूर्ण मुद्दों पर प्रस्ताव पास किए जाएंगे. बैठक में संघ के अलग-अलग अनुसांगिक संगठनों में काम करने वाले विशिष्ट प्रचारक और नेता हिस्सा लेंगे. बैठक में संघ की महिला इकाई राष्ट्रीय सेविका समिति से भी प्रतिनिधि शामिल होंगी. तीन दिवसीय बैठक के अंत में सरसंघचालक मोहन भागवत की मौजूदगी में संघ के नंबर 2 अधिकारी सरकार्यवाह भैया जी जोशी के भाषण से होगा.

ये भी पढ़ें : बिहार से पश्चिम बंगाल का रुख, टीएमसी के कोटे से राज्यसभा भेजे जा सकते हैं प्रशांत किशोर

Related Posts