Hate Speech Case: Facebook के अधिकारियों को समन भेजेगी दिल्ली विधानसभा की शांति और सौहार्द कमेटी

आप नेता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने कहा कि कमेटी हर पक्ष को सुन रही है, आज तीन गवाहों के बयान सुनने के बाद दिल्ली दंगों में और निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव प्रकिया में Facebook की भूमिका पर संदेह व्यक्त किया गया है.

  • Manav Yadav
  • Publish Date - 8:23 pm, Tue, 25 August 20
Facebook

दिल्ली दंगों (Delhi Violence) पर बनी दिल्ली विधानसभा की शांति और सौहार्द कमेटी की मंगलवार को एक अहम बैठक हुई. इस बैठक में कई गवाहों ने अपने बयान दर्ज कराए. बैठक की अध्यक्षता कर रहे आप नेता राघव चड्ढा (Raghav Chadha) ने कहा कि कमेटी हर पक्ष को सुन रही है, आज तीन गवाहों के बयान सुनने के बाद फेसबुक (Facebook) की दिल्ली दंगों में और निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव प्रकिया में भूमिका पर संदेह व्यक्त किया गया है. ऐसे में कमेटी ने तय किया है कि फेसबुक अधिकारियों को समन भेजकर कमेटी के सामने बुला जाएगा और उनका पक्ष सुनेगी.

मालूम हो कि वॉल स्ट्रीट जर्नल (WSJ) में 14 अगस्त को एक लेख छपा था, जिसमें आरोप लगाया कि फेसबुक बीजेपी के पक्ष में काम कर रहा है. कमेटी के सामने शिकायत आई उसके बाद कमेटी ने कार्यवाही शुरू की.

“फेसबुक पर मौजूद सामग्री निष्पक्ष नहीं है”

कमेटी की कार्यवाही में ये पता चला है कि फेसबुक पर मौजूद सामग्री निष्पक्ष नहीं है और फेसबुक खास सामग्री को बढ़ावा देता है और ये बात सामने आई है कि फेसबुक और बीजेपी के बीच एक सांठगांठ है. अपवित्र सांठ-गांठ है. बीजेपी के खिलाफ वाली सामग्री को फेसबुक बढ़ावा नहीं देता. ऐसा कमेटी के सामने रखा गया.

“FB ने इस मामले में सिलेक्टिव होकर की कार्रवाई”

फेसबुक सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वाली सामग्री के खिलाफ अपनी पॉलिसी के तहत कार्रवाई करता है लेकिन कमेटी के सामने ये बात भी रखी गई कि FB ने इस बार कार्रवाई सिलेक्टिव होकर की, जिसमें दंगों के दौरान बीजेपी के नेताओं द्वारा दिए गए भाषण को लंबे समय तक फेसबुक पर रखा.

“दिल्ली दंगों में भी FB की भूमिका पर हो जांच”

फेसबुक कहीं न कहीं अपने आचरण से निष्पक्ष और स्वतंत्र चुनाव प्रकिया को प्रभावित करता है. ये बात भी कमेटी के सामने आई है. गवाहों ने ये भी बात कही कि दिल्ली के दंगों में फेसबुक की भूमिका की जांच होनी चाहिए. दंगा भड़काऊ सामग्री को फेसबुक ने हटाने के लिए कदम नहीं उठाए.

कमेटी फेसबुक की अधिकारी अंखी दास भेजेगी नोटिस

कमेटी की बैठक में फेसबुक के कई आलाधिकारियों का नाम भी सामने आए हैं. इससे ये निकलकर सामने आया है कि फेसबुक के अधिकारियों को भी नोटिस भेजकर उनका पक्ष लिया जाए. कमेटी फेसबुक की अधिकारी अंखी दास को आने वाले समय में पेश होने के लिए नोटिस भेजेंगे, ताकि इन आरोपों पर वे अपना पक्ष रख सकें.