दिल्ली विधानसभा पैनल के नोटिस के खिलाफ फेसबुक इंडिया की SC में याचिका, बुधवार को सुनवाई

फेसबुक इंडिया के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजीत मोहन ने दिल्ली विधानसभा की शांति एवं सदभाव समिति द्वारा जारी नोटिस के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है.

supreme court
सुप्रीम कोर्ट ने घरेलू हिंसा से महिलाओं के संरक्षण पर 2005 के कानून को 'मील का पत्थर' बताया.

सुप्रीम कोर्ट बुधवार को फेसबुक इंडिया (Facebook India) के सोशल मीडिया हेड अजीत मोहन (Ajit Mohan) की याचिका पर सुनवाई करेगा. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली विधानसभा द्वारा भेजे नोटिस को चुनौती दी है. याचिका न्यायमूर्ति संजय किशन कौल, अनिरुद्ध बोस और कृष्णा मुरारी की पीठ के समक्ष सूचीबद्ध है.

रविवार को, दिल्ली विधानसभा की शांति व सद्भाव पैनल ने अजीत मोहन को 23 सितंबर से पहले पेश होने का नया नोटिस दिया था. दरअसल, पैनल ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को हेट स्पीच नियमों को जानबूझकर लागू नहीं करने के आरोप में यह नोटिस दिया था और आरोपों पर स्पष्टीकरण देने को कहा था.

इससे पहले भी पैनल ने फेसबुक इंडिया के प्रमुख को 10 और 18 सितंबर को विधानसभा की स्थायी समिति के समक्ष पेश होने का नोटिस दिया था. याचिका में इन समन के तत्वाधान में दिल्ली विधानसभा की ओर से किसी कठोर कार्रवाई पर रोक की मांग की गई है.

फेसबुक के वकील ने पैनल के नोटिस के जवाब में कहा था कि चूंकि, मामला संसद के समक्ष विचाराधीन है. ऐसे में इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता है. इस पर राघव चड्ढा ने फेसबुक पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था, ”पैनल के समक्ष पेश होने में फेसबुक की नाकामी दर्शाती है कि वह दिल्ली दंगों में अपनी भूमिका छिपाना चाहता है.”

राघव चड्ढा ने पैनल के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श के बाद फेसबुक को अंतिम नोटिस जारी करने का फैसला किया था. (आईएएनएस इनपुट के साथ)

Related Posts