टीआरपी घोटाला: BARC का बड़ा फैसला, न्यूज चैनलों की रेटिंग अस्थाई रूप से निलंबित

न्यूज चैनलों के टीआरपी घोटाले (Fake TRP Scam) के चलते ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बीएआरसी) ने एक बड़ा फैसला लिया है. बार्क ने न्यूज चैनलों की रेटिंग को अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया है.

Fake TRP Scam

न्यूज चैनलों के टीआरपी घोटाले के चलते ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बीएआरसी) ने एक बड़ा फैसला लिया है. बार्क ने न्यूज चैनलों की रेटिंग को अस्थाई रूप से निलंबित कर दिया है. BARC की तरफ से बताया गया है कि यह फैसला सभी हिंदी, रीजनल, इंग्लिश, बिजनस न्यूज चैनलों पर लागू होगा.

बता दें कि मुंबई पुलिस ने पिछले हफ्ते खुलासा किया था कि पैसा देकर फॉल्स TRP कराया जाता था. इस मामले में अबतक 5 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. टीआरपी घोटाले में रिपब्लिक टीवी समेत तीन चैनलों के नाम हैं. गिरफ्तार किए गए लोगों में समाचार चैनलों के कर्मचारी भी शामिल हैं, जबकि पुलिस इस संबंध में अर्नब गोस्वामी के नेतृत्व वाले रिपब्लिक टीवी के अधिकारियों से भी पूछताछ कर रही है. रिपब्लिक टीवी ने कुछ भी गलत करने से इनकार किया है.

12 हफ्ते तक सस्पेंड रह सकती है रेटिंग

बार्क की तरफ से हर हफ्ते रेटिंग जारी होती है कि कौन सा चैनल कितना देखा गया. इसी रेटिंग में पहले नंबर पर आने के लिए घोटाले के आरोप लगे थे. बताया गया है कि इस निबंलन के दौरान कुछ तकनीकी चीजों की जांच की जाएगी. इसमें 8-12 हफ्ते यानी तकरीबन तीन महीने लग सकते हैं. एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि काउंसिल ‘सांख्यिकीय मजबूती’ में सुधार के लिए माप के वर्तमान मानकों की समीक्षा करने और उन्हें बेहतर बनाने का इरादा रखती है, और इस कवायद के चलते साप्ताहिक रेटिंग 12 सप्ताह तक ‘स्थगित’ रहेगी.

पढ़ें- कैसी दी जाती है रेटिंग, कौन जारी करता है रैंकिंग, कैसे होता है फर्जीवाड़ा? TRP गेम का A To Z

सुप्रीम कोर्ट गया था रिपब्लिक मीडिया ग्रुप

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को रिपब्लिक मीडिया ग्रुप से मुंबई पुलिस द्वारा दर्ज टेलीविजन रेटिंग पाइंट्स (टीआरपी) घोटाला मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट जाने को कहा. न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति इंदिरा बनर्जी की पीठ ने कहा कि हाई कोर्ट कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान काम करता रहा है और मीडिया समूह को उसके पास जाना चाहिए, क्योंकि उसका कार्यालय वर्ली में है.

मीडिया हाउस के लिए पेश हुए वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने जारी जांच को लेकर संशय जताते हुए कहा, ‘हाल के दिनो में आयुक्तों के साक्षात्कार देने का चलन देखा जा रहा है.’

मुंबई पुलिस ने टीआरपी घोटाले के संबंध में एक मामला दर्ज किया है और जांच के लिए रिपब्लिक टीवी के मुख्य वित्तीय अधिकारी एस सुंदरम को सम्मन जारी किया है. पुलिस ने ‘फक्त मराठी’ और ‘बॉक्स सिनेमा’ के मालिकों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया है. रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के मालिकाना हक वाले आर्ग आउटलाइयर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड ने न्यायालय में यह याचिका दायर की है.

Related Posts