कर्नाटक के इस गांव में कुत्तों को बाघ की तरह रंग रहे हैं किसान

इस तकनीक का इस्तेमाल अब गांव के सारे किसान करने लगे हैं.

भारत में किसानों के दुश्मन कितने हैं ये तो अंदाजा आपको होगा ही. बेमौसम बारिश, जब बारिश की जरूरत हो तब सूखा, नीलगाय और बाकी जंगली जानवर, ये सब उनकी फसल के दुश्मन बने रहते हैं. इनसे किसी तरह वे अपनी फसलें बचाते हैं. भारतीय किसान जीवट के अलावा जिस चीज में सबसे आगे हैं उसका नाम है जुगाड़. जुगाड़ से वो बड़ी से बड़ी मुसीबत से निपट लेते हैं.

कर्नाटक में कॉफी और सुपारी की फसलों के लिए बंदर काल बने हुए हैं. उनसे बचने के लिए किसानों ने हैरान करने वाला तरीका निकाला है. शिवमोगा जिले के किसानों ने अपने पालतू कुत्तों को बाघ के रंग में रंग दिया है. कुत्तों को इस तरह बाघ समझकर बंदर उनसे और खेतों से दूर ही रहते हैं.

नलूरु गांव के श्रीकांत गौड़ा ने एएनआई को बताया कि इससे पहले उन्होंने बाघ जैसे खिलौनों का इस्तेमाल किया था लेकिन उससे कोई फायदा नहीं हुआ. उन्होंने गोवा से बाघ की तरह के खिलौने मंगाए थे जिनका रंग कुछ ही दिनों में हल्का हो गया और बंदर फिर से हाहाकार मचाने लगे. सारी फसल चौपट कर दी. इसके बाद कुत्तों को बाघ बनाने का जुगाड़ खोजा गया.

श्रीकांत बताते हैं कि अपने पालतू कुत्ते बुलबुल को लेकर दो बार खेतों में जाते हैं. एक बार सुबह और एक बार शाम को. उसे देखते ही सारे बंदर भाग जाते हैं और जल्दी नजदीक नहीं आते. श्रीकांत की बेटी अनन्या बताती हैं कि उनके पिता की तकनीक का इस्तेमाल अब गांव में सभी लोग करने लगे हैं.

ये भी पढ़ें:

आधार कार्ड में नाम बदलवाने के लिए इतना ‘रिस्की’ काम, राजनाथ सिंह के काफिले के सामने लेटा शख्स
BJP ने भगवंत मान पर लगाया संसद में शराब पीकर भाषण देने का आरोप, नार्को टेस्ट की मांग