कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन, कांग्रेस सांसद पहुंचे SC, पढ़ें पूरा घटनाक्रम

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh) ने कहा कि ‘दिल्ली में आज सुबह ट्रैक्टर जलाया जाना लोगों को गुस्सा दिखाता है. यह दिखा रहा है कि लोग कैसा महसूस कर रहे हैं. उनका गुस्सा दिख रहा है. किसानों को नहीं पता है कि अब उनकी उपज कौन खरीदने जा रहा है.’

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 8:36 pm, Mon, 28 September 20
असंतुष्ट किसानों के साथ सरकार की बैठक बेनतीजा (File Photo)

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ओर से कृषि विधेयकों (Agriculture Bills) पर हस्ताक्षर करने और उन्हें कानून बनाने के एक दिन बाद किसानों (Farmers) का प्रदर्शन उग्र होता नजर आया. पंजाब युवा कांग्रेस के कार्यकतार्ओं ने सोमवार को उच्च सुरक्षा वाले इंडिया गेट इलाके में एक ट्रैक्टर को आग के हवाले कर अपना विरोध जताया. दिल्ली पुलिस ने घटना में शामिल पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. क्रांतिकारी भगत सिंह की जयंती पर सुबह लगभग 7.15 बजे विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए पंजाब युवा कांग्रेस के लगभग 10-15 कार्यकर्ता एक ट्रक से राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे. कार्यकतार्ओं ने ट्रक से एक ट्रैक्टर को उतारा और उसमें आग लगा दी.

आईवाईसी ने एक ट्वीट में भगत सिंह की कही बात को उद्धृत करते हुए कहा कि अगर बहरों को सुनाना है, तो आवाज बहुत तेज होनी चाहिए : भगत सिंह. ट्वीट में कहा गया, “शहीद भगत सिंह की स्मृति के सम्मान में, पंजाब युवा कांग्रेस ने इंडिया गेट पर एक ट्रैक्टर को जलाकर किसानों के प्रति भाजपा सरकार के उदासीन रवैये का विरोध किया. सोते हुए सरकार को जगाओ. इंकलाब जिंदाबाद.”

केंद्र के कानून से किसानों को बचाने के लिए स्‍टेट लॉ में संशोधन की तैयारी: अमरिंदर सिंह

भाजपा ने दिल्ली पुलिस में की शिकायत

इंडिया गेट के पास राजपथ पर ट्रैक्टर जलाने वाले कांग्रेस कार्यकर्ताओं के खिलाफ भाजपा ने दिल्ली पुलिस में शिकायत की है. दिल्ली भाजपा के मीडिया रिलेशंस हेड नीलकांत बख्शी ने सोमवार को नई दिल्ली जिले के डिप्टी पुलिस कमिश्नर को शिकायत देकर कार्यकर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. उन्होंने कहा है कि ट्रैक्टर जलाने की घटना खतरनाक साजिश का नतीजा है.

बीजेपी नेता नीलकांत बख्शी ने कहा कि ट्रक में ट्रैक्टर लादकर प्रदर्शन-निषिद्ध क्षेत्र में लाकर आग लगा देना एक खतरनाक ट्रेंड है. आखिर कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों को क्या संदेश दे रहे हैं? भगत सिंह की जयंती के दिन किसानों के नाम पर ट्रैक्टर जलाना, भगत सिंह और किसानों दोनों का अपमान है.

प्रकाश जावडेकर ने जाताय विरोध

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कृषि कानूनों के विरोध में इंडिया गेट के पास एक ट्रैक्टर को आग के हवाले करने की घटना को लेकर हमला बोला. जावडेकर ने कहा, “कांग्रेस बेनकाब हो गई है और किसानों को गुमराह कर रही है. वे किसानों के नाम पर नाटक और राजनीति कर रही है.”

जावडेकर ने ट्वीट किया, “कांग्रेस के कार्यकर्ता ट्रक में ट्रैक्टर लाए और इंडिया गेट के पास जलाया. यही है कांग्रेस का नाटक. इसलिए कांग्रेस को लोगों ने सत्ता से बेदखल किया.”


सीएम अमरिंदर सिंह ने किया बचाव

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि ‘दिल्ली में आज सुबह ट्रैक्टर जलाया जाना लोगों को गुस्सा दिखाता है. यह दिखा रहा है कि लोग कैसा महसूस कर रहे हैं. उनका गुस्सा दिख रहा है. किसानों को नहीं पता है कि अब उनकी उपज कौन खरीदने जा रहा है.’

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बयान

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कांग्रेस शासित राज्यों से कहा कि केंद्र के कृषि विधेयकों को खारिज करने के लिए कानून पर विचार करें. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता केसी वेणुगोपाल ने ट्वीट किया,“माननीय कांग्रेस अध्यक्ष ने कांग्रेस शासित राज्यों को संविधान के अनुच्छेद 254 (2) के तहत अपने राज्यों में कानून पारित करने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए कहा है. जो राज्य विधानसभाओं को एक केंद्रीय कानून को ओवरराइड करने के लिए एक कानून पारित करने की अनुमति देता है, फिर जिसे राष्ट्रपति की मंजूरी की जरूरत होती है.’


क्या बोले राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए किसानों से बातचीत करेंगे. उन्होंने ट्वीट करके कहा, “कृषि कानून हमारे किसानों के लिए मौत की सजा है. संसद और बाहर उनकी आवाज को कुचल दिया जाता है.”

कृषि बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे कांग्रेस सांसद

इस बीच कांग्रेस ने कृषि बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. केरल से कांग्रेस सांसद टीएन प्रतापन ने सुप्रीम कोर्ट में कृषि अधिनियम को चुनौती दी है. संसद द्वारा पिछले सप्ताह पारित किए गए किसानों से जुड़े बिल को वापस लेने के लिए रिट याचिका दायर की गई है. टीएन प्रतापन ने मूल्य आश्वासन और फार्म सेवा अधिनियम, 2020 के किसान (सशक्तीकरण और संरक्षण) समझौते के खिलाफ याचिका दाखिल की है. उनका कहना है कि यह संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 मूल अधिकारों का उल्लंघन है.

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू समेत कई नेता गिरफ्तार

वहीं, उत्तर प्रदेश की राजधानी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किसान बिल के विरोध और राज्य में अपराध बढ़ने समेत कई तरह के आरोप लगाते हुए जमकर प्रदर्शन किया. लखनऊ के परिवर्तन चौक पर बड़ी संख्या में कांग्रेसी जीपीओ की ओर बढ़े, जिनको चौक के पास ही रोक लिया गया. इस दौरान प्रदर्शन कर रहे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू समेत कई नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है.

बिल के विरोध को लेकर जगह-जगह से कांग्रेस नेता हिरासत में लिए गए. कई को उनके घर में ही नजरबंद कर दिया गया है. सेवादल के कई कार्यकर्ता परिवर्तन चौक के पास पुलिस हिरासत में लिए गए. कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि प्रदेश में अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं. विरोध की हर आवाज को दबाया जा रहा है.

कर्नाटक में भी किसानों का जोरदार प्रदर्शन 

दक्षिण भारत में भी किसान सड़कों पर उतरे हुए हैं. बीजेपी शासित राज्य होने के बावजूद कृषि बिल के साथ-साथ कर्नाटक के भूमि सुधार बिल के खिलाफ राज्य में किसानों ने प्रदर्शन किया. मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा भी किसान नेता माने जाते हैं ऐसे में उनके राज्य में शुरू हुए आंदोलन से उन्हें परेशानी हो सकती है.

कर्नाटक में बेंगलुरू के अलावा अन्य जगहों पर भी कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिले. किसानों का आरोप है कि आलू, प्याज, दलहन को नया कानून आने के बाद से न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिलेगा जिससे उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.

किसानों से बात किए बिना बदल दिया 40 साल पुराना कानून, बर्बाद हो जाएंगी मंडियां: कांग्रेस