महबूबा मुफ्ती से घर जाकर मिले फारूक और उमर अब्दुल्ला, BJP ने कहा- रच रहे हैं षड्यंत्र

महबूबा मुफ्ती ने इस मुलाकात पर कहा, "आपके और फारूक साहब के घर आने पर खुशी हुई. मुझे उनको सुनकर काफी हिम्मत मिली. मुझे यकीन है कि हम सब मिलकर बेहतरी के लिए चीजों को बदल सकते हैं."

महबूबा मुफ्ती के घर फारूक और उमर अब्दुल्ला मीटिंग (File Photo)

नजरबंदी से रिहा होने के एक दिन बाद पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस (JKNC) के चीफ फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) और उनके बेटे उमर अबदुल्ला (Omar abdullah) से मुलाकात की. उमर अब्दुल्ला ने मुलाकात के दौरान की तस्वीर ट्वीट की.

उमर ने अपने ट्वीट में लिखा, “मेरे पिता और मैंने आज दोपहर महबूबा मुफ्ती साहिबा से उनकी रिहाई के बाद मुलाकात कर उनकी तबीयत के बारे में जाना. साथ ही उन्होंने कल दोपहर गुप्कार घोषणा हस्ताक्षरकर्ताओं की एक बैठक में शामिल होने के लिए फारूक साहब के निमंत्रण को स्वीकार किया है.”

वहीं महबूबा मुफ्ती ने इस पर कहा, “आपके और फारूक साहब के घर आने पर खुशी हुई. मुझे उनको सुनकर काफी हिम्मत मिली. मुझे यकीन है कि हम सब मिलकर बेहतरी के लिए चीजों को बदल सकते हैं.”

वहीं इस मुलाकात पर जम्मू और कश्मीर बीजेपी के अध्यक्ष रविंद्र रैना ने कहा कि ये लोग अपने आप को और अपने पापों को छिपाने के लिए षड्यंत्र रच रहे हैं. रविंद्र रैना ने कहा कि महबूबा मूफ्ती के घर में फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला की जो मीटिंग हुई है, जिसमें गुप्कार एजेंडे को आगे बढ़ाने पर उन्होंने चर्चा की है.

“जो भी षड्यंत्र करेगा वो बच नहीं पाएगा”

रैना ने कहा कि ये गुप्कार एजेंडा देशद्रोहियों और पाकिस्तान का एजेंडा है. जम्मू-कश्मीर की जनता का इस गुप्कार एजेंडे से कोई लेना-देना नहीं है और जनता ने पहले इस एजेंडे को कूड़ेदान में फेंक दिया है. उन्होंने आगे कहा कि ये लोग खुद को बचाने और अपने पापों को छिपाने के लिए इस तरह का षड्यंत्र रच रहे हैं, लेकिन जो भी षड्यंत्र करेगा वो बच नहीं पाएगा.

मालूम हो कि जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) को 14 महीने और आठ दिन बाद मंगलवार को रिहा कर दिया गया था. जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 हटाने के बाद से ही महबूबा मुफ्ती नजरबंद थीं. जम्मू-कश्मीर से 5 अगस्त 2019 को आर्टिकल 370 के प्रावधानों को हटाने के साथ ही महबूबा मुफ्ती को पीएसए के तहत हिरासत में ले लिया गया था. तबसे अब तक उनकी हिरासत की अवधि लगातार बढ़ाई जा रही थी.

“नीतीश जी होशियार, अब आप रडार पर” महबूबा मुफ्ती की रिहाई पर और क्या बोले राजनेता

Related Posts