15 दिसंबर से FASTag जरूरी, इसके बिना टोल प्‍लाजा पर देना होगा दोगुना टैक्‍स

फास्टैग ये रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन यानि RFID चिप लगा एक कार्ड है जो गाड़ी की विंड स्क्रीन यानि आगे वाले शीशे पर लगाया जाता है.

सरकार ने एक दिसंबर से फास्टैग का इस्तेमाल अनिवार्य किए जाने को  राहत दी है. अब ये नियम 15 दिसंबर से लागू होगा, तब तक फैसले को टाल दिया गया है. 15 दिसंबर तक लोगों को नेशनल हाइवे के टोल पर पुराने नियमों को फॉलो करना होगा.

गौरतलब है कि सरकार ने कैशलेस ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए 1 दिसंबर से नेशनल हाइवे के लिए वाहनों पर फास्टैग (FASTag) लगाना अनिवार्य किया था.

15 दिसंबर बाद आपको अपने वाहन पर फास्टैग का इस्तेमाल करना होगा और अगर नहीं किया तो नेशनल टोल प्लाजा पर दोगुना टोल टैक्स भरना होगा. इससे जुड़ी तीन खास बातें हैं…

  • 15 दिसंबर से देश के सारे नेशनल टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य है.
  • बिना फास्टैग के आप अगर इस टोल प्लाजा से गुज़रे तो दो गुना टोल टैक्स देना होगा.
  • फिलहाल सरकार इसको फ्री में बांट रही है, हो सकता है कि 1 दिसंबर के बाद इसकी कीमत चुकानी पड़े.

क्या है फास्टैग?

फास्टैग ये रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन यानि RFID चिप लगा एक कार्ड है जो गाड़ी की विंड स्क्रीन यानि आगे वाले शीशे पर लगाया जाता है. फास्टैग लगा होने पर आपको टोल वाहन रोकने की जरूरत नहीं होती. इस चिप के ज़रिये ऑटोमैटिक टोल पेमेंट हो जाएगी और उसका मैसेज आपके मोबाइल फोन पर आ जाएगा.

काम कैसे करेगा?

सबसे पहले अपने फोन पर MY FASTag मोबाइल एप डाउनलोड करें. एप में मांगी गई गाड़ी की डीटेल भरें और ऐक्टिवेट करें. उसके लिए गाड़ी की RC और फोटो आई कार्ड की ज़रूरत पड़ेगी. इस एप को अपने बैंक खाते से लिंक कर सकते हैं जिसके बाद टोल प्लाज़ा से गुज़रने पर टोल टैक्स सीधे आपके खाते से कट जाएगा. इस एप पर NHAI प्रीपेड वॉलेट की सुविधा भी उपलब्ध है जिसको UPI, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, नेट बैंकिंग के जरिये रिचार्ज कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- सरकार ने गाड़ियों के लिए FASTag किया जरूरी, जानें कितना आएगा खर्चा…