बेटी को ऑनलाइन क्लासेज के लिए नहीं दिला पाया स्मार्टफोन, पिता ने किया सुसाइड

जब सुकुमार ने अपनी बेटी को नया मोबाइल फोन दिया, तो उसने इसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया, क्योंकि उसे अपनी ऑनलाइन कोचिंग (Online Coaching) के लिए एंड्रॉएड स्मार्टफोन (Smatphone) की जरूरत थी.
Father commit suicide, बेटी को ऑनलाइन क्लासेज के लिए नहीं दिला पाया स्मार्टफोन, पिता ने किया सुसाइड

त्रिपुरा (Tripura) में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है. एक डेली वेज मजदूर (Daily Wage Labor) अपनी बेटी को उसकी ऑनलाइन पढ़ाई (Online Classes) के लिए एक एंड्रॉएड स्मार्टफोन (Smartphone) देने में असफल रहा, तो उसने पश्चिमी त्रिपुरा में अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. यह मामला राज्य के सिपाहीजला का है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

बेटी ने डाला स्मार्टफोन डालने का दबाव

सिपाहीजला जिले के पुलिस प्रमुख कृष्णेंदु चक्रवर्ती ने कहा कि 45 वर्षीय सुकुमार भौमिक ने अपनी 15 वर्षीय सबसे बड़ी बेटी द्वारा एंड्रॉएड स्मार्टफोन के लिए दबाव डाले जाने के बाद एक साधारण मोबाइल फोन खरीदा. चक्रवर्ती ने गुरुवार को बताया, “जब सुकुमार ने अपनी बेटी को नया मोबाइल फोन दिया, तो उसने इसे स्वीकार करने से इनकार कर दिया, क्योंकि उसे अपनी ऑनलाइन कोचिंग के लिए एंड्रॉएड स्मार्टफोन की जरूरत थी. सुकुमार की पत्नी और बेटी ने भी उसे झिड़क (डांटना) दिया था.”

अधिकारी ने कहा कि सुकुमार ने अपनी पत्नी और बेटी को शांत करने की कोशिश की और उन्हें बताया कि उनके पास महंगा एंड्रॉएड फोन खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं. लेकिन वे उसे परेशान करते रहे. उनकी बेटी ने नया मोबाइल फोन जमीन पर फेंक कर तोड़ दिया.

सुकुमार के करीबी रिश्तेदारों ने कहा कि अपनी बेटी और पत्नी द्वारा उन पर किए गए दुर्व्यवहार से अपमानित महसूस करते हुए उसने बुधवार तड़के पश्चिमी त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के मधुपुर स्थित अपने घर में बंद कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.

सुकुमार की एक करीबी रिश्तेदार मनिका भौमिक ने कहा, “सुकुमार दिहाड़ी मजदूरी करके अपने परिवार का पेट पालता था, जिसमें तीन बच्चे, उसकी पत्नी और खुद वो शामिल था. उसकी रोजमर्रा की कमाई कोरोनावायरस के कारण लगे प्रतिबंधों के चलते कम हो गई थी.”

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts