Coronavirus: प्रेगनेंसी और अनसेफ अबॉर्शन में इजाफे की आशंका, हेल्थ से जुड़े संगठनों ने जताई चिंता

कोविड-19 (Covid-19 Pandemic) के दौरान प्रसव के पहले और बाद की देखभाल, परिवार नियोजन और गर्भनिरोधक आपूर्ति आदि संसाधनों से भी ध्यान हटा है.
fear of increase pregnancies, Coronavirus: प्रेगनेंसी और अनसेफ अबॉर्शन में इजाफे की आशंका, हेल्थ से जुड़े संगठनों ने जताई चिंता

11 जुलाई यानी वर्ल्ड पॉपुलेशन डे (World Population Day) के मौके पर एक एनजीओ ने कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते प्रेग्नेंसीज में इजाफा और अनसेफ अबॉर्शन की चिंता जाहिर की. पॉपुलेशन फाउंडेशन ऑफ इंडिया (पीपीआई) ने शनिवार को पॉलिसी पेपर रिलीज किया, जिसमें संगठन ने महामारी के दौरान सरकार की रिप्रोडक्टिव हेल्थ स्कीम (Reproductive Health Scheme) का फायदा महिलाओं को न मिलने से प्रेग्नेंसीज (Pregnancies) में इजाफा और अनसेफ अबॉर्शन (Unsafe Abortion) की गहरी चिंता व्यक्त की है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

कोरोना काल में प्रेग्नेंसीज में इजाफा 

UNICEF ने पहले ही अनुमान लगाया था कि कोरोनावायरस महामारी के नौ महीने के दौरान भारत में सबसे ज्यादा बर्थ रेट होगा. पीपीआई की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर पूनम मुत्ररेजा ने कहा कि महामारी के दौरान कुछ सबसे बड़ी चिंताओं में से प्रेग्नेंसीज में इजाफा है और बाद में आबादी. ऐसा इसलिए क्योंकि देश में महिलाओं के पास गर्भनिरोधक की लिमिटेड या कोई एक्सेस नहीं है.

उन्होंने कहा कि विशेष रूप से छोटे शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में. आशा और एएनएम के स्वास्थ्य कर्मचारी, जो मुख्य रूप से महिलाओं की स्वास्थ्य देखभाल और रिप्रोडक्टिव हेल्थ की सर्विस में लगे हुए थे वे इन दिनों कोविड-19 की ड्यूटी कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे में अनवांटेड प्रेग्नेंसीज के अलावा महिलाओं की ओवरऑल रिप्रोडक्टिव हेल्थ और चाइल्ड हेल्थ की चिंता महामारी के दौरान ज्यादा बढ़ी है.

कोविड-19 के दौरान प्रसव के पहले और बाद की देखभाल, परिवार नियोजन और गर्भनिरोधक आपूर्ति आदि संसाधनों से भी ध्यान हटा है. पीएफआई द्वारा 2015-31 की अवधि के लिए किए गए एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया है कि प्रभावी परिवार नियोजन हस्तक्षेप 2.9 मिलियन शिशुओं की मृत्यु को रोक सकते हैं और 1.2 मिलियन मातृ जीवन बचा सकते हैं. स्टडी में यह पाया गया कि इसी अवधि के दौरान भारत में गुणवत्तापूर्ण परिवार नियोजन सेवाओं की उपलब्धता 206 मिलियन असुरक्षित गर्भपात को रोक सकती है.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts