इंटरव्यू के दौरान बोले नितिन गडकरी, सरकार के पास 36 राफेल विमान खरीदने के ही साधन थे

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ये बयान एक साक्षात्कार के दौरान दिए. इस साक्षात्कार के दौरान गडकरी ने बालाकोट एयर स्ट्राइक समेत तमाम बड़े मुद्दों पर अपनी राय रखी.

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक साक्षात्कार के दौरान कई मुद्दों पर अपनी राय रखी. इस दौरान गडकरी ने बहुचर्चित राफेल मुद्दे पर भी जवाब दिया.

साक्षात्कार के बीच में नितिन गडकरी से पूछा गया कि सरकार ने सभी 126 राफेल विमान क्यों नहीं खरीदे. गडकरी ने आगे कहा कि आप मुझे कैसे सलाह दे सकते हैं कि आप 100 विमान ले सकते हैं? कम से कम हमें उतने पैसे खर्च करने के लिए उतने पैसे की आवश्यकता होती है, इसलिए  36 विमान खरीदने के लिए सरकार की वित्तीय स्थिति पर निर्भर करता है.”

बेहतर थी हमारी डील
गडकरी ने सरकार की वित्तीय उपलब्धता के सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि जो सौदा हमारी सरकार ने किया वो उस दौरे से बेहतर था जो कि यूपीए ने तय किया था.  उन्होंने यह भी कहा, ‘मान लीजिए, 36 विमानों के बाद, अगर सस्ती कीमत के साथ नई तकनीक, नए विमान की उपलब्धता है, तो हम इसे खरीदने के लिए स्वतंत्र हैं, हमें राफेल ही क्यों खरीदना चाहिए?”

ये भी पढ़ें- कोलकाता में अमित शाह की रैली के पहले हटवाए पोस्टर-होर्डिंग, गुस्साई BJP

राफेल विवाद
गौरतलब है कि राफेल जेट को लेकर देश में जबरदस्त बहस चल रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने का आरोप है कि पीएण मोदी के इस फैसले ने अनिल अंबानी को तीस हजार करोड़ का फायदा पहुंचाया है. पहले सुप्रीम कोर्ट ने इस डील को बिल्कुल सही पाया था लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट राफेल मामले पर दोबारा सुनवाई के लिए तैयार हो गया है.

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
राफेल मामले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार की दलीलों को खारिज कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने रक्षा मंत्रालय से लीक हुए दस्तावेजों की वैधता को मंजूरी दे दी है. कोर्ट के फैसले के मुताबिक याचिकाकर्ता के दिए दस्तावेज अब सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के हिस्सा होंगे.