खबरदार हो जाओ दुश्मनों, दांत खट्टे करने के लिए आ गया है अपाचे

बोइंग ने कहा कि अपाचे का पहला बैच भारत में आ गया है और अगले सप्ताह भारतीय वायुसेना को अतिरिक्त चार हेलिकॉप्टर सौंप दिए जाएंगे.

नई दिल्ली: अमेरिका की नामी एयरोस्पेस कंपनी बोइंग ने शनिवार को 22 अपाचे अटैक हेलीकॉप्टरों में से चार को भारतीय वायु सेना को सौंप दिया है, जबकि अगले सप्ताह चार हेलिकॉप्टरों का एक और जत्था भारत पहुंचाया जाएगा.

मालूम हो कि करोड़ों रुपयों की ये डील साइन होने के चार साल बाद भारतीय वायु सेना को एएच- 64 ई अपाचे हेलीकॉप्टर्स के पहले जत्थे की डिलिवरी हिंडन एयर बेस पर हुई है. बोइंग ने कहा कि अपाचे का पहला बैच भारत में आ गया है और अगले सप्ताह भारतीय वायुसेना को अतिरिक्त चार हेलिकॉप्टर सौंप दिए जाएंगे.

उन्होंने कहा, “आठों हेलिकॉप्टर सितंबर में भारतीय वायुसेना द्वारा अपने औपचारिक निरीक्षण के लिए पठानकोट वायुसेना स्टेशन पर भेजे जाएंगे.” एएच -64 ई अपाचे दुनिया के सबसे उन्नत मल्टी रोल कॉम्बेट लड़ाकू हेलीकाप्टरों में से एक है, और अमेरिकी सेना भी इसका इस्तेमाल करती है.

मालूम हो कि सितंबर 2015 में भारतीय वायु सेना ने अमेरिकी सरकार और बोइंग लिमिटेड के साथ 22 अपाचे हेलीकॉप्टर्स के लिए करोड़ों रुपयों का सौदा किया था. साथ ही, रक्षा मंत्रालय ने 2017 में सेना के लिए 4,168 करोड़ रुपए की लागत से बोइंग से छह अपाचे हेलीकॉप्टरों की खरीद भी की थी. यह अटैक हेलिकॉप्टरों का इसका पहला बेड़ा होगा.

पहले जत्थे की डिलिवरी समय से पहले

भारतीय वायु सेना के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि अपाचे का भारतीय वायु सेना के बेड़े में शामिल होने के साथ आईएएफ की लड़ाकू क्षमताओं में काफी वृद्धि होगी क्योंकि ये हेलिकॉप्टर आईएएफ की भविष्य की आवश्यकताओं के अनुरूप बनाया गया है.

बोइंग ने एक बयान में कहा, “शेड्यूल के पहले ही अपाचे की डिलिवरी भारत के रक्षा बलों के आधुनिकरण के लिए बोइंग के वादे की प्रतिबद्धता को दर्शाता है. बोइंग ने मिशन की तत्परता सुनिश्चित की है और आईएएफ के साथ अपनी वर्तमान पार्टनरशिप के माध्यम से ऑपरेशनल कैपेबिलिटी में वृद्धि की है.

बोइंग ने दुनिया भर के ग्राहक देशों के लिए 2,200 से अधिक अपाचे वितरित किए हैं. भारत अपने सैन्य बलों के लिए इसे चुनने वाला 14वां देश है. बोइंग ने कहा, “2020 तक, भारतीय वायुसेना 22 अपाचे का बेड़ा संचालित करेगी और इसकी पहली डिलीवरी शेड्यूल से पहले की गई है.

ये भी पढ़ें- सशस्त्र बलों की 100 कंपनियों की तैनाती को लेकर फैलाया जा रहा है झूठ: ADGP मुनीर खान